कोरोना मरीज अस्पताल में भर्ती हुआ तो डॉक्टर छोड़ देंगे अपने घर जाना

कोरोना मरीज अस्पताल में भर्ती हुआ तो डॉक्टर छोड़ देंगे अपने घर जाना

दमोह. जिला अस्पताल में डॉक्टर व नर्सिंग स्टॉफ कोरोना से लडऩे के लिए हर मोर्चे पर तैयार है। यदि जिला अस्पताल में कोरोना पॉजीटिव मरीज भर्ती होता है तो उस दौरान कुछ डॉक्टर व नर्सिंग स्टाफ अस्पताल में रूकने की मन: स्थिति बनाए हुए है। जिला अस्पताल के आरएमओ डॉ. दिवाकर पटेल अभी सुबह 8 बजे से रात्रि 11 बजे तक अपनी सेवाएं दे रहे हैं। जिला अस्पताल के संचालन व व्यवस्थाओं की जिम्मेदारी के साथ मरीजों को देखते हुए अपने कर्तव्यों को अंजाम दे रहे हैं। वह अस्पताल व परिवार के बीच अभी सामंजस्य बैठाए हुए हैं और संकट की घड़ी में अपने पेशे को सेवा के रूप में समर्पित कर दिया है। दमोह जिला में एक भी कोरोना पॉजीटिव मरीज अभी तक सामने नहीं आया है। यदि कोरोना पॉजीटिव मरीज जिला अस्पताल लाया जाता है तो उस स्थिति के लिए भी अपनी मन: स्थिति बना ली है।
अपने परिवार को खतरे में नहीं डालूंगा
डॉ. दिवाकर पटेल कहते हैं कि यदि जिला अस्पताल कोरोना पॉजीटिव भर्ती होता है तो उस दिन से लेकर उसको स्वस्थ्य होने तक वह अस्पताल में ही रुकेंगे। वह अपने घर वायरस ले जाकर अपने बच्चों को खतरे में नहीं डालेंगे।
नर्सिंग स्टॉफ की भी यही मन
ऐसी परिस्थितियों में अपने परिवारजनों को खतरें में नहीं डालेंगे। अस्पताल में ही रुककर पूरी सर्तकता के साथ प्रोटोकॉल को पूरा करेंगे। कुछ सेवा भावी नर्सें भी कोरोना वायरस के पीरियड में सेवा कार्य करने के लिए तैयार हैं।

Sanket Shrivastava Desk/Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned