सुरक्षा कर्मी देखता रहा और नदी के पुल पार कर रहे गाय बछड़े एक एक कर बह गए

सुरक्षा कर्मी देखता रहा और नदी के पुल पार कर रहे गाय बछड़े एक एक कर बह गए
गाय बछड़े एक एक कर बह गए

rakesh Palandi | Updated: 25 Aug 2019, 01:03:04 AM (IST) Damoh, Damoh, Madhya Pradesh, India

सुरक्षा कर्मी देखता रहा और नदी के पुल पार कर रहे गाय बछड़े एक एक कर बह गए
जूड़ी नदी सहित अन्य स्थानों पर नदी नाले रहे उफान पर

दमोह. पिछले दो दिनों से हो रही बारिश की वजह से जिले के नदी नाले उफान पर रहे। नदी नालों के उफान पर रहने की वजह से कुछ मार्गों पर यातायात बंद रहा। इसी क्रम में एक ऐसी घटना सामने आई जिसमें पुल पर पानी होने के दौरान मौके पर सुरक्षाकर्मी तैनात रहा और वह पुल पार कर रहे मवेशियों को एक एक-कर बहते हुए तमाशा देखता रहा। खासबात यह थी कि जब मवेशी पुल की ओर बढ़ रहे थे उस समय भी सुरक्षाकर्मी मौजूद था और वह खड़ा होकर मवेशियों को पुल पर पानी का तेज बहाव होने के दौरान देखता रहा। सुरक्षाकर्मी द्वारा अपने कर्तव्यों के प्रति बरती गई उदासीनता के नतीजतन मवेशी जूड़ी नदी के तेज बहाव में बह गए। बताया गया है कि जिस समय यह हादसा हुआ उस दौरान पुल पर ग्राम रक्षा समिति के पप्पू सिंह लोधी, होमगार्ड सैनिक बबलू को ड्यूटी पर तैनात किया गया था।
सात से अधिक बहे मवेशी
पुल पार करने के दौरान पुल के बीचों बीच जैसे ही करीब 15 से अधिक मवेशी पहुंचे तो वह तेज बहाव की चपेट में आ गए। स्थिति यह रही कि एक के बाद एक मवेशी तेज बहाव में बह गए। बताया गया है कि करीब सात से अधिक मवेशी नदी में बहे हैं। इस दौरान जहां सुरक्षा की जिम्मेदारी के लिए तैनात कर्मी लापरवाह रहे तो वहीं इस दौरान स्थानीय लोग भी मौजूद रहे। स्थानीय लोगों ने भी तमाशबीन बने रहे और उन्होंने भी मवेशियों को पुल पर पहुंचने के पहले रोकने की जहमत नहीं उठाई।
प्रभारी ने तोड़ी जिम्मेदारी की हदें
पुल पर तेज बहाव के दौरान मवेशी बहने की घटना शनिवार सुबह करीब 8 बजे के
बाद की है। लेकिन देर शाम तक थाना प्रभारी शैलेंद्र सिंह झूठी अफवाह फैलाते रहे। पत्रिका ने मामले के संबंध में जब थाना प्रभारी शैलेंद्र सिंह से बात की तो उन्होंने बताया कि घटना एक साल पुरानी है, उस दौरान मैं यहां नहीं था। जब पत्रिका द्वारा उन्हें बताया गया कि सैनिक बबलू से पूछताछ पर उसने कहा है कि घटना के दौरान वह मौके पर नहीं था। जब मवेशी बहे उस दौरान मौके पर पप्पू लोधी ग्राम रक्षा समिमि का सदस्य ड्यूटी पर था। इस जबाव में थाना प्रभारी सकते में पड़ गए और फिर वह पता करने की बात कहने लगे। थाना प्रभारी की इस कार्यप्रणाली ने यह स्पष्ट कर दिया कि वह भी अपने अधिनस्थों की तरह ही लापरवाह रवैया अपनाए हुए हैं। वहीं मामले में प्लाटून कमांडर प्राची दुबे से जानकारी चाहे जाने पर उन्होंने बताया कि घटना के दौरान ड्यूटी पर लगाए गए सैनिक बबलू का कहना है कि वह किसी कार्य के चलते थाने पर गया था इस दौरान मवेशी बहने की घटना हुई।
मौके पर नहीं थे मवेशी मालिक
जो मवेशी नदी में बहे हैं उन मवेशियों के मालिक मौके पर नहीं थे। यही कारण रहा कि जो स्थानीय लोग मौके पर थे उन्होंने मवेशियों को रोकने की जहमत नहीं उठाई। हालांकि बताया गया है कि एक युवक ने ग्राम रक्षा समिति के पप्पू लोधी से मवेशियों को रोकने के लिए कहा था। लेकिन उसने मना कर दिया और यह कह दिया कि यह आवारा मवेशी हैं।
अन्य स्थानों पर नदी नाले उफान पर रहे
प्लाटून कमांडर प्राची दुबे ने बताया कि बटियागढ़ की जूड़ी नदी के अलावा नोहटा थानांतर्गत आने वाला धुनगी नाला के पुल पर दो से तीन फुट पानी रहा जिसकी वजह से आवागमन बंद था। ग्रामीण क्षेत्रों से प्राप्त हुई जानकारी के अनुसार पटेरा क्षेत्र अंतर्गत व हटा क्षेत्र अंतर्गत के जंगली नाले भी लगातार हुई बारिश की वजह से उफान पर रहे।

वर्जन
मैं पता करता हूं कि ड्यूटी पर कौन था। मैं पता करता हूं।
विवेेक सिंह, एसपी

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned