खरीफ फसल की बोवनी का कार्य हुआ पूरा

खरीफ फसल की बोवनी का कार्य हुआ पूरा

By: Sanket Shrivastava

Published: 17 Jun 2020, 11:02 PM IST

दमोह. जिले में किसानों ने खरीफ फसलों की बोवनी कार्य लगभग पूरा कर लिया है। इस बार बारिश के अच्छे आसार होने से कृषि क्षेत्र को फायदा मिलने की उम्मीद है। इस बार प्री मानसून की बारिश की में ही पिछले वर्षों की तुलना में ज्यादा पानी बरसा।
इस वजह से किसानों ने खेत जल्दी जोत लिए हैं। वहीं अब बोवनी कार्य भी लगभग समाप्त हो चुका है। इस बार किसानों को परेशानी का सामना भी करना पड़ा। गेंहूं व चना तुलाई के चलते किसानों को अपनी उपज बेचने के लिए विभिन्न मुश्किलों का सामना करना पड़ा। जिस वक्त जिले के खरीदी केंद्रों में किसानों की उपज खरीदी हो रही थी, उसी समय किसान खरीफ सीजन की फसल को लेकर तैयारी करने में जुटे थे। ऐसे में किसान परिवारों को विभिन्न परेशानियां हुईं। प्री मानसून की अच्छी बारिश से किसानों को फायदा मिला।
जिससे किसानों ने कम खर्च में खेतों को खरीफ फसल की बोवनी लायक बनाया। अच्छे मौसम की वजह बोवनी कार्य जल्द ही निपट गया। किसानों को अब बस पानी गिरने का इंतजार है, ताकि बीज आने वाले समय में फसल का आकार ले। जिले में प्रमुख रूप से सोसाबीन, उड़द, मूंग, धान आदि की फसलें ली जातीं है।
जिले के जबेरा व तेंदूखेड़ा क्षेत्र में चावल की पैदावार खासतौर की जाती है। इन क्षेत्रों में मिट्टी व मौसम धान की पैदावार के लिए उपयुक्त माना जाता है। इसलिए जिले में धान पैदावार सर्वाधिक जबेरा व तेंदूखेड़ा अंचल में की जाती है। जिले के बाकी हिस्से में खरीफ सीजन की फसलों में सोयाबीन की फसल ज्यादा ली जाती है। साथ ही जिले में मूंग, उड़द, मूंगफली आदि की पैदावार होती।

Sanket Shrivastava
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned