दमोह. सत्य अहिंसा का पथ बताकर मुक्ति के मार्ग पर प्रशस्त करने वाले जैन धर्म के अंतिम तीर्थंकर भगवान महावीर का जयंती महोत्सव जिले में धूमधाम के साथ मनाया गया। इस मौके पर शोभायात्राएं निकाली गईं।
शहर के सिटी नल से बुधवार सुबह चांदी के विमान में श्रीजी को विराजित करके भव्य शोभायात्रा निकाली गई। इस अवसर पर मुनि विमल सागर महाराज का संघ सहित सानिध्य प्राप्त हुआ। शोभायात्रा में सबसे आगे दिव्य घोष के साथ धर्म ध्वजा लिए अश्व सवार चल रहे थे। विभिन्न मंदिरों द्वारा सजाई गई वर्धमान की झांकियां शोभा यात्रा का विशेष आकर्षण बनी हुई थीं। दर्जन भर से अधिक अश्वरथों में अभिषेक का सौभाग्य प्राप्त करने वाले पुण्य अर्जक परिवार बैठे हुए थे। रास्ते में जगह-जगह रंगोली सजाकर स्वागत द्वार बनाये गए थे। मुनि संघ का पाद प्रक्षालन व श्रीजी की आरती करने श्रावक अपने घर प्रतिष्ठानों के बाहर आतुर बने हुए थे। नसिया जी मंदिर के सामने श्रीजी के अभिषेक पूजन के पूर्व शांति धारा सौभाग्यशाली पात्रों का चयन किया गया। तत्पश्चात मुनि विमल सागर तथा भाव सागर महाराज की दिव्य देशना का लाभ सभी को प्राप्त हुआ। मुनिश्री ने गौशाला निर्माण के लिए दान देने सभी को प्रेरित किया।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned