दमोह. शहर में चारों तरफ पिछले दो वर्षों के भीतर लोगों द्वारा बेजा अवैध अतिक्रमण किया गया है। किसी ने पक्की दुकानें अवैध अतिक्रमण कर बना ली तो किसी ने पक्का मकान ही सरकारी नाला पर कब्जा कर बना लिया है। आपको यह जानकर ताजुब्ब होगा कि अवैध कब्जाधारियों के इस कारनामे से भी बढ़ा कारनामा नपा सब इंजीनियर्स ने कर दिखाया है। इन्होंने नालियों पर अवैध कब्जा कर बनाईं गईं दुकानों को हटाए बगैर ही भीतर से नाले निर्माण कर दिए। विदित हो कि हाल ही में शहर के कुछ इलाकों में नालों का निर्माण कार्य किया गया है। चूंकि लोगों ने अवैध कब्जा करने के दौरान नालों को भी नहीं बख्शा था। नालों के निर्माण के लिए कब्जों को हटाया जाना जरुरी था, लेकिन कब्जाधारियों से मिलीभगत कर नालों का निर्माण मकानों के भीतर से कर दिया गया और कब्जे नहीं हटाए गए। मानसून आने से पहले शहर के बड़े छोटे नाले नालियों की सफाई में अवैध कब्जा सबसे बड़ी मुसीबत बनी हुई है यह बात नपा के सफाई अधिकारियों द्वारा कही गई थी। लेकिन जब बात अवैध कब्जो को हटाने की आई तो नपा अधिकारियों ने मिलीभगत को अंजाम दे दिया। पत्रिका द्वारा शहर के मांगज वार्ड में कुछ ऐसे ही स्थानों पर फोकस किया गया। यहां देखा गया कि कुछ दिनों पहले बनी नालियों को मकानों दुकानों के भीतर से बना दिया गया है। जबकि नालियों के निर्माण से पहले अवैध कब्जाधारियों के विरुद्ध कार्रवाई की जानी चाहिए थी जो नहीं की गई। जिम्मेदारों ने कब्जाधारियों के साथ मिलीभगत कर एक नई तकनीक को दर्शा दिया और अब ऐसे कब्जों व नालियों को देखकर हर कोई हैरत में है। मामले में सीएमओ कपिल खरे का कहना है कि नालियों का निर्माण यदि गलत तरीके से किया गया है तो इसकी जांच की जाएगी। नालियों पर अवैध कब्जों को हटाया जाएगा।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned