इनका नहीं कोई मकाम, शहर के बीच भी नहीं मिलते हमदर्द

दिन में सड़कों पर रात में रहते हैं दुकानों के किनारे

By: Rajesh Kumar Pandey

Published: 12 Nov 2017, 02:10 PM IST

दमोह. बीते सालों की अपेक्षा इस बार शीत ऋतु ने भले ही कुछ देरी से दस्तक दी है। लेकिन मौसम के करवट लेने के बाद अब सुबह-व देर शाम से ठंड की अकडऩ शुरू हो जाती है। जिले में अब धीरे-धीरे पारा गिरना भी शुरू हो गया है। शुक्रवार को न्यूनतम पारा 14..5 था, जो एक डिग्री सैल्सियस गिरकर शनिवार को 13.5 पर आ गया। जिससे शनिवार को शीत लहर का असर देखने मिला। सर्द हवाओं के बीच उन लोगों को सबसे अधिक तकलीफ होती है, जिनका खुला आसमान के नीचे गुजर-बसर करना मजबूरी होती है। यह दुर्दशा जिला मुख्यालय में शहर के बीचों बीच देखने मिल रही है। शहर के मध्य जिला अस्पताल के ठीक सामने स्थित मानस भवन परिसर में बनी दुकानों के बाहर एक परिवार सड़क पर रहने विवश है। इन्हें पिछले 10 सालों से खुले आसमान के नीचे रहने विवश होना पड़ रहा है। लेकिन इनकी पूछ-परख करने वाला कोई हमदर्द अभी तक सामने नहीं आया।
प्रशासन ने तोड़ दिया था पट्टे का मकान-
पिछले दस सालों से खुले आसमान के नीचे रहने वाली बेवा मुन्नी बाई पति स्व. छोटे लाल बंशकार ने बताया कि वह जिला अस्पताल के सामने ४५ सालों से कैदों की तलैया किनारे रहती थी। लेकिन वहां पर वर्ष २००५ में गुरुगोलवरकर मार्केट मानस भवन बनाने के लिए योजना बनाई थी। उस समय उनका पट्टे का मकान तोड़ा गया था। जिसके बाद उन्होंने कई बार पूर्व नपा सीएमओ व अन्य को आवेदन दिए लेकिन उन्हें आज तक मकान की व्यवस्था नहीं हो सकी। मुन्नी ने बताया कि उसकी तीन बेटियां व चार बेटे हैं। जो दिन में मानस भवन के मैदान समीप बांस की कारीगरी से टोकनी, सूपा, दौरिया बगैरह बनाकर फुटपाथ पर बेचते हैं। राम में दुकानें बंद होने पर वह मानस भवन के गुरुगोलवरकर मार्केट में ही खुले आसमान के नीचे सो जाते हैं।
ठंड में आग का लेते हैं सहारा-
मुन्नी बाई बताती हैं कि बारिश में दुकानों के नीचे, गर्मी व ठंड में खुले आसमान के नीचे रातें बिताती हैं। ठंड के समय कई बार वह मानस भवन मार्केट का कचरा बीनकर उसे जलाती हैं और सर्द हवाओं से बचने में आग ही उनका सहारा होती है।

दिलाएंगे पक्का मकान
मुन्नी बाई के बारे में उन्हें अभी तक जानकारी नहीं है। लेकिन उनके पास यदि मकान नहीं है। तो वह प्रधानमंत्री आवास योजना में आवेदन करें। वह सोमवार को आकर कार्यालय में अपना आवेदन पत्र भर सकती हैं। उन्हें पक्का मकान दिलाया जाएगा।
कपिल खरे-सीएमओ नपा

Rajesh Kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned