scriptNow the fever of the virus is not viral | अब वायरल नहीं वायरस का आ रहा बुखार | Patrika News

अब वायरल नहीं वायरस का आ रहा बुखार

बच्चों को पहले हो गया कोरोना, पता ही नहीं चला

दमोह

Published: August 04, 2021 10:30:59 pm

दमोह. दमोह जिले में पहली व दूसरी लहर में ही बच्चे कोरोना की चपेट में आ चुके हैं और उनमें किसी भी प्रकार के लक्षण भी नजर नहीं आए। बाद में जब बुखार आया और एंटीबॉडी टेस्ट कराई गई तो पहले कोरोना होने का पता चला।
जिला अस्पताल में बुखार, उल्टी व दस्त के सर्वाधिक मरीज पहुंच रहे हैं। यहां भर्ती होने वाले मरीजों का इलाज अब वायरल न मानते हुए कोविड वायरस 19 से जन्य बीमारी एमआइएस-सी के आधार पर इलाज किया जा रहा है।
दमोह की एक निजी लैब से एंटीबॉडी टेस्ट कराया जा रहा है, जहां पर हाल ही में 20 बच्चों की एंटीबॉडी जांच कराई गई, जिनमें से 12 बच्चों की एंटीबॉडी पॉजिटिव पाई गई। शेष 8 की रिपोर्ट निगेटिव आई। इन सभी बच्चों का एमआइएस-सी हिसाब से इलाज किया गया।
वायरल नहीं एमआइएस-सी कर रही बीमार
मल्टीसिस्टम इनफ्लेमेटरी सिंड्रोम यह एक गंभीर बीमारी है, जो कोविड 19 से संबंधित है, जिन बच्चों को कोरोना होता है। अधिकतर उनमें कोई लक्षण नहीं होते हैं। यदि कुछ लक्षण होते हैं तो वह काफी हल्के होते हैं। लेकिन एमआइएसाी में महत्वपूर्ण अंग जैसे हृदय, फेफड़े, किडनी, आंत, आंखें, दिमाग, त्वचा व रक्त नलिकाओं में प्रभाव पड़ता है। इन अंगों में विपरीत लक्षण दिखाई देते हैं।
ये दिखाई देते हैं लक्षण
बुखार तीन दिन से अधिक रहता है। अत्याधिक पेट दर्द होना। उल्टी दस्त होना। सांस लेने में तकलीफ होना। त्वचा पर दाने आना एमआइएससी बीमारी के ही लक्षण है। जिस पर तत्काल विशेषज्ञ डॉक्टर से परामर्श व ब्लड की जांचें करानी आवश्यक है। जिला अस्पताल के शिशु एवं बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. राजेश नामदेव बताते हैं कि एमआइएससी एक सिंड्रोम है। मतलब इसमें बहुत से लक्षण होते हैं। यह शरी के ज्यादातर अंगों को प्रभावित करता है। इस बिल्कुल कारण ज्ञात नहीं है। लेकिन कोविड 19 के प्रति शरीर का अत्याधिक प्रतिरोध प्रभाव है। अधिकांश उन बच्चों में हो रहा है, जिन्हें पहले कोविड 19 का इन्फेक्शन हो चुका हो। ये भी हो सकता है अधिकांश बच्चों में एंटीबॉडी टेस्ट पॉजिटिव होता है। इससे 3 साल से 12 साल के बच्चे ज्यादा ग्रसित हो रहे। जिला अस्पताल में इस तरह के मरीज आ रहे हैं, जो उपचार के उपरांत ठीक हैं, वहीं कुछ मरीज अभी भी इलाजरत हैं। सही जांच व सही समय पर इलाज मिलने से सभी बच्चे स्वस्थ्य हो रहे हैं।
Now the fever of the virus is not viral
Now the fever of the virus is not viral
 

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

CM चन्‍नी का बड़ा आरोप, जाते-जाते ईडी के अफसरों ने कहा, ‘PM का दौरा याद रखना’भारत विरोधी कंटेंट चलाने वाले यूट्यूब चैनलों के खिलाफ होगा एक्शन- अनुराग ठाकुरभारत ने निर्धारित अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर बैन 28 फरवरी तक बढ़ायाभाजपा की स्टार प्रचारकों की लिस्ट से 8 महत्वपूर्ण नेता और केंद्रीय मंत्री गायब, BJP ने साइड कर दिया?अपर्णा यादव और स्वामी प्रसाद मौर्य की बेटी को BJP ने बनाया पोस्टर GirlUP PCS Main 2021 Postponed: यूपी पीसीएस की मुख्य परीक्षा स्थगित, ये हैं नयी तारीखरेगिस्तान में यहां छुपा है 4800 खरब लीटर पानी का खजानाकल होगा Toyota का धमाका! नए सेग्मेंट में एंट्री के साथ लॉन्च होगी नई पिक-अप Hilux, जानिए क्या है इसमें ख़ास
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.