नहीं हुई धान खरीदी, केंद्रों पर पसरा सन्नाटा, बढ़ रही किसानों की बेचैनी

2 दिसंबर को भी नहीं शुरू हुई धान खरीदी, अब 10 दिसंबर से खरीदी की उम्मीद

By: Sanket Shrivastava

Published: 03 Dec 2019, 09:19 AM IST

दमोह/ बम्हौरीमाला. समर्थन मूल्य पर धान खरीदी को लेकर तारीख पर तारीख बढ़ती जा रही है, उधर गल्ले में धान सहेजकर रखने वाले किसानों की बैचेनी बढ़ रही है। इधर किसानों की बैचेनी का फायदा व्यापारी उठाने लगे हैं, पहले जहां 1100 से 1300 की बोली लगा रहे थे अब वहीं 1400 से 1500 की खरीदी करते नजर आ रहे हैं।
जिले में धान खरीदी केंद्रों का शासन स्तर पर निर्धारण नहीं हो पाया है। खाद्य व आपूर्ति विभाग व जिला सहकारी बैंकों द्वारा अभी तक धान खरीदी केंद्रों का निर्धारण नहीं किया गया है, पहले धान खरीदी की तारीख 25 नवंबर थी, इसके बाद बढ़ाकर 2 दिसंबर कर दी गई थी, लेकिन इस तारीख की शाम तक किसानों को खरीदी के संबंध में कोई जानकारी नहीं दी गई, जिससे वह भटकते हुए नजर आए। वहीं अब प्रशासनिक स्तर पर माना जा रहा है, कि धान खरीदी अगले सप्ताह 10 दिसंबर के बाद ही शुरू हो पाएगी।
जबेरा ब्लॉक के अंतर्गत आने वाली सिमरी जालम सिंह, रोड़, बनवार, कलहरा, अभाना, नोहटा और चौपरा चंडी केंद्रों पर धान खरीदी नहीं की गई। केंद्र पर कोई भी ऑपरेटर, समिति प्रबंधक, सेल्समैन, हम्माल जैसी कोई भी व्यवस्थाएं नजर नहीं आई। इसके अलावा प्रभारियों के मोबाइल दिन भर बंद रहे। जिससे संभावित खरीदी केंद्रों पर सन्नाटा पसरा रहा।
खरीदी केंद्रों पर सोमवार को किसान गुड्डु ठाकुर, इंद्रजीत सिंह, गोपाल अवस्थी, बाबू सिंह, हल्कू ठाकुर, कनी विश्वकर्मा ने बताया कि इस बार धान खरीदी केंद्र पर विलंब होने के कारण अब मजबूरी में व्यापारियों को धान देना पड़ेगा, क्योंकि धान की रखवाली करने में भी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इसके अलावा रबी फसल के लिए खाद व बीज के लिए रुपयों की आवश्यकता है, जिसकी पूर्ति अब व्यापारियों के माध्यम से ही हो सकती है।
&अभी धान केंद्रों का निर्धारण नहीं हो पाया है, अभी किसानों की धान गीली हो सकती है, इसलिए अब अगले सप्ताह से खरीदी संभावित है, शासन को खरीदी केंद्रों की सूची भेजी है, जो स्वीकृत होते ही खरीदी शुरू करा दी जाएगी।
- बीके सिंह, जिला आपूर्ति अधिकारी दमोह

Sanket Shrivastava
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned