अजब-गजब : तोता-मैना की एेसी महफिल कहीं और नहीं मिलेगी देखने, आप भी देखिए-डोंट मिस

आंगन मे हर दिन चुगते हैं दाना, यहां हर रोज सुनाते हैं एक-दूसरे को दिल की बात

By: lamikant tiwari

Updated: 24 Jul 2018, 12:11 PM IST

दमोह. कहते हैं दाने-दाने पर खाने वाले का नाम लिखा होता है। यही कारण है कि हर किसी को उसकी किस्मत के दाने मिल ही जाते हैं। लेकिन शहर के विजय नगर में एक परिवार ऐसा है जो हर दिन आंगन मे दाने डालता है। जिसे चुगने के लिए तोता-मैना का झुंड नियमित आता है। यह क्रम केवल बारिश या गर्मी में नहीं बल्कि साल भर चलता है। विजय नगर निवासी लायनेस क्लब से जुड़ी समाजसेवी महिला अंजना सोनी बताती हैं कि वह कई सालों से पक्षियों के लिए प्लेट में दाने रखकर चुगने के लिए आंगन में एक पलेट में रख देती थीं। जहां पर पहले तो चिडिय़ों के झुंड आते थे। उसके बाद पता नहीं कैसे क्या हुआ कि पिछले करीब नौ सालों से तोता-मैना के कई जोड़े आकर दाना चुगते हैं और चले जाते हैं। वह बताती हैं कि हर किसी के घर में इतना खाना तो बच ही जाता होगा जितने में कई पक्षियों का पेट भर सके। इसके लिए उन्होंने यह योजना बनाई कि खाना बचे और फिके इससे बेहतर है कि पक्षियों को पेट भरने के लिए वह अलग से हर माह दाने खरीदकर रखती हैं। जिससे उनके यहां आकर नियमितरूप से सुबह ६ से ७ बजे के बीच पक्षी दाना रखने लगीं। जिससे उनके यहां हर रोज पक्षियों के झुंड आने लगे। अंजना का कहना है कि प्रकृति ने सभी के लिए पेट भरने का साधन दिया है। लेकिन पक्षियों के लिए पेट भरने में काफी मेहनत करना पड़ती है। इसलिए उन्होंने पक्षियों की परेशानी को ध्यान में रखते हुए संकल्प लिया कि वह रोज पक्षियों को दोना चुगने के लिए रखेंगी। और उनके यहां नियमितरूप से पक्षियों के झुंड आने लगे। जिन्हें देखकर परिवार के लोग भी खुश रहने लगे। अंजना कहती हैं कि हर किसी को चाहिए कि वह पक्षियों की ओर भी ध्यान देंगे तो प्रकृति में सुंदरता बनी रहेगी। क्योंकि बिना पक्षियों के जंगल भी वीराने लगने लगते हैं। इसलिए हम चाहते हैं कि जगत में पक्षी बने रहें तो हम सब का यह कर्तव्य है कि उनका ध्यान भी रखें।

Parrot Myna Mehfil Dosti exemplary Granule
Show More
lamikant tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned