बसे बंद होने से उपचार के लिए परेशान हो रहे मरीज

बसे बंद होने से उपचार के लिए परेशान हो रहे मरीज

By: Sanket Shrivastava

Published: 26 Jun 2020, 11:58 PM IST

दमोह. बसों का संचालन बंद रहने से आम लोगों कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। लॉकडाउन के पहले लंबी दूरी तय करने वाली बसों से लोगों को बहुत सी सहूलियतें रहती थीं। लेकिन जबसे बसों का संचालन बंद हुआ तभी से आम लोगों की परेशानियां बढ़ गईं। सरकार व बस ऑपरेटर्स की लड़ाई के बीच आमजनता को परेशानियां झेलनी पड़ रही हैं।
बसें बंद रहने से प्रदेश के बाहर इलाज कराने वाले मरीज प्रभावित हो रहे हैं। जिले से रोजाना सैकड़ों मरीज जटिल व बड़ी बीमारियों के इलाज के लिए प्रदेश के बाहर नागपुर जाते थे। जिनकी संख्या अब काफी कम हो गयी है। बसें बंद रहने के पूर्व ऐसे रोजाना सैकड़ों मरीज नागपुर में अपना इलाज कराते थे। लेकिन बसों का संचालन बंद रहने से इनको परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। यदि मरीज किराए के वाहन से नागपुर इलाज के लिए जाते हैं तो इलाज से ज्यादा वाहन किराए पर खर्च हो होते हैं। ऐसे में अधिकांश मरीज नागपुर जाने से पीछे कदम खींच रहे हैं। सैकड़ों मरीज बसें बंद रहने से प्रभावित हो रहे हैं।
नागपुर जाने के लिए किराए के वाहन लेने पर पंद्रह से बीस हजार रुपए खर्च होते हैं। जबकि बस से सफर करने पर यह राशि महज हजार से दो हजार रह जाती है। ऐसे में यदि जो लोग नागपुर इलाज के लिए जा रहे हैं, उनको दोगुना खर्चा आ रहा है। वहीं जो लोग आर्थिक दायरे में बंधे हैं। वे जिले में या जबलपुर अथवा सागर में इलाज करवाने को मजबूर हैं।

Sanket Shrivastava Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned