#SundayPoliticalClub : पीएम इन वेटिंग पर बोले दमोह लोग

पीएम इन वेटिंग पर बोले दमोह लोग

By: Samved Jain

Updated: 10 Mar 2019, 06:22 PM IST

दमोह. पीएम इन वेटिंग मौके आए और चले गए सोनिया और आडवाणी प्रधानमंत्री तो क्या होता। इस विषय पर रविवार की दोपहर 3.३० बजे परिचर्चा आयोजित की गई। जिसमें वक्ताओं ने मूल मुद्दे पर अपनी बात रखी। सवाल था कि क्या सोनिया या आडवाणी देश के बेहतर प्रधानमंत्री साबित होते, क्या सोनिया या आडवाणी पीएम होते तो विदेश नीति मजबूत होती, क्या सोनिया आडवाणी पीएम होते तो राम मंदिर का विवाद हल हो चुका हो चुका होता।

इन सवालों पर वक्ताओं ने कहा यूपीए सरकार में सोनिया गांधी अघोषित प्रधानमंत्री रहीं, मनमोहन सिंह को रिमोट की तरह चलाती रहीं, जिससे तीनों मुद्दे विफल साबित हुए। रही बात आडवाणी की वह उप प्रधानमंत्री रहे तो उस दौरा में भी इन तीनों मुद्दों पर देश हित में कोई प्रयास नहीं किए गए हैं। एक वक्ता ने कहा कि आडवाणी भी प्रधानमंत्री बन जाते तब भी राममंदिर नहीं बन पाता क्योंकि भाजपा केवल राममंदिर को मुद्दा बनाना चाहती है, मंदिर वह कभी नहीं बनाएगी। विदेश नीति पर युवा वक्ता ने कहा कि इस मामले में हमें जनप्रतिनिधि पढ़े लिखे चाहिए, जो विदेशों के कानून और वहां की व्यवस्थाओं को समझ सके। जब किसी के प्रर्वतन का मुद्दा आए तो वह आरोपी जल्द भारत लाए जा सकें। भगोड़ों के मामले मेें देखा जाता है कि भारत एक भी भगोड़े को वापस लाकर उस पर कार्रवाई न कर पाया है क्योंकि हम विदेश नीति के मामले फिसड्डी साबित हुए हैं। सोनिया व आडवाणी बेहतर प्रधानमंत्री होने के मुद्दे पर किसी ने पक्ष तो किसी ने विपक्ष में अपनी बात रखी।

इस दौरान वक्ता पीएम इन वेटिंग को छोड़कर वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भी आए किसी ने सफल तो किसी ने फेलियर प्रधानमंत्री बताया। सैनिकों की शहादत के राजनीतिकरण का विरोध किया गया। सैनिक के मामले में देश एक होना चाहिए। देश की बात हो तो सभी को एकजुट होना चाहिए। वक्ताओं का कहना है कि अभी तक देश में बेसिक मुद्दों पर किसी भी सरकार ने पहल नहीं की है, जिसकी जितनी भागीदारी उसको उसके हिसाब से आरक्षण नहीं मिला है। परिचर्चा में वैभव सिंह, गजेंद्र गौरव पटैल, राजेंद्र बिदौल्या, मोंटी रैकवार, धीरज जानसन, राजेंद्र तिवारी, शैलेंद्र चौहान, प्रमोद विश्वकर्मा, निधि श्रीवास्तव, ऋषि नेमा, आशुतोष शर्मा, धीरज जानसन, शुभम दुबे, प्रफुल्ल श्रीवास्तव, मनीष तिवारी व विशाल शिवहरे की मौजूदगी रही।

Samved Jain
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned