Follow up गौशाला अध्यक्ष को पुलिस थाने में किया गया तलब

Follow up गौशाला अध्यक्ष को पुलिस थाने में किया गया तलब

pushpendra tiwari | Publish: Mar, 14 2018 12:28:46 PM (IST) | Updated: Mar, 14 2018 12:28:47 PM (IST) Damoh, Madhya Pradesh, India

पेड़ों पर मृत मवेशियों के शव टांगे जाने का मामला

दमोह. जिले के तेंदूखेड़ा तहसील मुख्यालय में संचालित गौशाला आचार्य विद्यासागर दयोदय पशु केंद्र के अध्यक्ष संजय जैन को पुलिस थाने में विभिन्न जानकारियां प्रस्तुत किए जाने के लिए टीआई द्वारा तलब किया गया है। पुलिस द्वारा गौशाला प्रबंधन से विभिन्न जानकारियां चाहीं गईं हैं। वहीं पत्रिका में दो दिन पहले प्रकाशित खबर के बाद उन पेड़ों से मृत गाय बछड़ों के शवों को हटा दिया गया है। जिन पेड़ों पर काफी मात्रा में मृत मवेशियों के कंकाल रखे गए थे अब उनके आसपास हड्डियां भी नजर नहीं आ रहीं हैं। पेड़ों से शव हटाने का कार्य काफी आनन फानन में किया गया और इस दौरान सभी पेड़ों से कंकालों को हटा दिया गया, लेकिन जल्दबाजी में एक पेड़ पर अब भी मृत बछड़े का शव टंगा देखा जा सकता है।

 

दो दिन बाद मंगलवार की स्थिति जिसमें मामला उजागर होने के बाद पेड़ों से कंकाल हटा दिए गए हैं


इन बिंदुओं पर मांगी जानकारी


तेंदूखेड़ा पुलिस थाने द्वारा विभिन्न जानकारियां दिए जाने के लिए गौशाला प्रबंधन को पत्र लिखा गया है और अध्यक्ष संजय जैन से जानकारी चाही गई है। टीआई तेंदूखेड़ा आशाराम अहिरवार ने जो जानकारी गौशाला के संबंध में चाही है उसमें लिखा गया है कि वर्तमान में कितने मवेशी गौशाला में हैं, गौशाला के कितने मवेशी जीर्णशीर्ण हालत में हैं, ०१ जनवरी २०१८ से अभी तक कितने मवेशियों की मौत हुई है, मवेशी मृत हो जाने पर उसके डिस्पोज की क्या प्रक्रिया है, गौशाला में मवेशियों के रखरखाव की क्या व्यवस्था है, कितना फंड गौशाला के संचालन के लिए आता है, फंड कहां से आता है व फंड खर्च करने की क्या विधि है। इन प्रमुख बिंदुओं पर जानकारी पुलिस द्वारा मंगाई गई है।


तत्काल चाही गई है जानकारी


मामला उजागर होने के बाद पुलिस थाने द्वारा गौशाला प्रबंधन से जिन जानकारियों को प्रस्तुत करने के लिए नोटिस दिया गया है, उसमें जानकारी नोटिस जारी होने के दिन ही चाही गई है, हालांकि अब तक पुलिस को विभिन्न जानकारियां प्राप्त नहीं होना सामने आया है। हालांकि पुलिस द्वारा चाही गई जानकारी गौशाला प्रबंधन को हरहाल में प्रस्तुत करनी ही होगी।


सवालों के घेरे में प्रबंधन


पुलिस द्वारा गौशाला संचालन सहित मवेशियों के मृत होने व शवों के डिस्ट्राय किए जाने की विधि संबंधी जो जानकारियां चाहीं गईं हैं, इस कारण गौशाला प्रबंधन सवालों के घेरे में नजर आ रहा है। इधर गौशाला अध्यक्ष संजय जैन को सोमवार के दिन कलेक्ट्रेट में आयोजित गौ संवर्धन समिति की बैठक में भी कई सवालों के जबाव सार्वजनिक रूप से देने पड़े गए थे। सूत्रों के अनुसार जिला मुख्यालय में मीटिंग समाप्त होने के बाद ही पेड़ों से मृत मवेशियों के कंकालों को हटाने की कार्रवाई की गई थी, लोगों को यह जानकारी थी कि कंकालों को गौशाला प्रबंधन के द्वारा हटवाया जा रहा है, लेकिन मंगलवार को टीआई तेंदूखेड़ा ने यह कार्रवाई स्वयं किया जाना बताई है।


लोगों में बदलाव से संतोष


इस मामले में तहसील मुख्यालय के उन लोगों को परेशानी होना सामने आई थी जो नगर से सटे इस इलाके में सुबह और शाम सैर सपाटा, व्यायाम करने के लिए जाते हैं। पेड़ों पर टंगे मृत मवेशियों के शवों की सड़ांद की वजह से सैर सपाटा करने वाले लोगों को काफी परेशानी हो रही थी और मामला प्रशासनिक अधिकारियों के समक्ष शिकायत के रूप में पहुंच गया था। पेड़ों से शव व हड्डियां हटा दी जाने से स्थानीय लोगों में खुशी होना सामने आया है।


खबर लगते ही मौत का सिलसिला भी थमा


पत्रिका में खबर प्रकाशन के पहले गौशाला में रोजाना अधिक संख्या में मवेशियों की मौत होने की बात सामने आई थी, लेकिन पिछले दो दिनों से मवेशियों की मौत इस तथ्य की पुष्टि अध्यक्ष संजय जैन के द्वारा बीते दिन कलेक्ट्रेट में बैठक के दौरान भी की गई थी। इन्होंने मौजूद अधिकारियों व समिति पदाधिकारियों को अवगत कराया था कि प्रतिदिन दो से तीन मवेशियों की मौत हो रही है, लेकिन वह इस बात का जबाव नहीं दे पाए थे कि मवेशियों की इस औसत में मौत होने की वजह क्या है।

 


पुलिस थाने द्वारा गौशाला से जानकारियां मंगाईं गईं है, मौके से मृत मवेशियों के कंकाल व हड्डियां मेरे द्वारा हटवाईं गईं हैं।
आशाराम अहिरवार, टीआई तेंदूखेड़ा

Ad Block is Banned