21 दिन से नहीं बंटा केंद्रों में पोषण आहार, गर्भवती महिलाएं परेशान, सेवा समाप्ति की लटकी तलवार

21 दिन से नहीं बंटा केंद्रों में पोषण आहार,  गर्भवती महिलाएं परेशान, सेवा समाप्ति की लटकी तलवार

Samved Jain | Publish: Mar, 08 2018 04:40:40 PM (IST) Damoh, Madhya Pradesh, India

शासकीय कर्मचारी का दर्जा पाने की मांग

दमोह. जिले की सभी आंगनबाड़ी मिनी आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की हड़ताल पिछले २१ दिन से लगातार जारी है। इन महिला कार्यकर्ताओं के हड़ताल पर होने की वजह से आंगनबाड़ी केंद्रों से संचालित होने वालीं केंद्र व राज्य की सभी योजनाएं बंद हैं। केंद्रों से पोषण आहार का वितरण भी १५ फरवरी से नहीं हुआ है। योजनाएं बंद होने की वजह से शासन की मंशा बीच में ही अटक कर रह गई है। इधर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का कहना है कि जब तक उन्हें शासकीय कर्मचारी होने का दर्जा नहीं दिया जाता है तब तक वह कार्य पर वापिस नहीं आएंगी।
महिला बाल विकास अधिकारी अनिल जैन से मिली जानकारी के अनुसार जिले भर में १७४२ आंगनबाड़ी व मिनी आंगनबाडिय़ों से विभिन्न योजानाओं का संचालन होता है। १४८८ आंगनबाड़ी केंद्र व २५४ मिनी आंगनबाड़ी केंद्र से जहां बच्चों को पोषण आहार का वितरण होता है वहीं सरकार की छह काफी महत्तवपूर्व योजनाओं का क्रियांवयन भी होता है, जो केंद्र बंद होने की वजह से नहीं हो पा रहा है।

इन योजना पर पड़ रहा असर
अनिल जैन ने बताया है कि केंद्र में पोषण आहार वितरण, औनपचारिक शिक्षा, मंगल कार्यक्रम, गर्भवती महिलाओं की जांच, लाड़ली लक्ष्मी योजना का संचालन कार्य, कुपोषण की जांच करवाने का कार्य सहित अन्य योजनाओं का लाभ महिलाओं व बच्चों को नहीं मिल पा रहा है।
सेवा समाप्त करने का है प्रावधान
महिला बाल विकास अधिकारी जैन ने बताया है कि शासन की गाइड लाइन के अनुसार आंगनबाड़ी कार्यकर्ता यदि हड़ताल व धरना प्रदर्शन में शामिल होते हैं, तो उनके मानदेय कांटे जाएंगे, वहीं यह नोटिस के बाद भी हड़ताल या प्रदर्शन से कार्य पर नहीं लौटते हैं तो इनकी सेवाएं समाप्त कर दी जाएं। हालांकि उन्होंने कहा है कि सेवाएं समाप्त करने की कार्रवाई वर्तमानक की स्थिति के अनुसार नहीं की जा सकती है, क्योंकि कार्यकर्ता सामूहिक रूप से हड़ताल पर हैं और इससे स्थिति और अधिक बिगड़ जाएगी। हालांकि अधिकारी जैन के अनुसार हड़ताली कार्यकर्ताओं का मानदेय कांटा जाएगा।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned