scriptReverse water enters the school and college from the damaged drain | चार चौराहों से घिरा वार्ड एमपीआरडीसी की नाली से हलाकान | Patrika News

चार चौराहों से घिरा वार्ड एमपीआरडीसी की नाली से हलाकान

locationदमोहPublished: Sep 22, 2022 05:49:42 pm

Submitted by:

Rajesh Kumar Pandey

क्षतिग्रस्त नाली से रिवर्स पानी घुसता है स्कूल व कॉलेज में

Reverse water enters the school and college from the damaged drain
Reverse water enters the school and college from the damaged drain
दमोह. सिविल वार्ड नं. ८ शहर के प्रमुख चार चौराहों के बीच में स्थित वार्ड है। इस वार्ड से हाइवे निकला होने से रोड के साथ ही नाली का निर्माण एमपीआरडीसी ने किया था, जो घटिया व छोटी नाली बनाए जाने के कारण इस वार्ड की प्रमुख समस्या बन गई है। हल्की बारिश में भी एमपीआरडीसी की नाली का पानी रिवर्स होकर स्कूल व कॉलेज में घुसने लगता है।
सिविल वार्ड नं. 8 तीन गुल्ली चौराहा से बैंक चौराहा, बस स्टैंड चौराहा, स्टेशन चौराहा होते हुए तीन गुल्ली पर समाप्त हो जाता है। इस तरह यह वार्ड शहर के अति व्यस्तम चार चौराहों से घिरा हुआ वार्ड है, जिसमें बड़ा हिस्सा टंडन बगीचा व डिग्री कॉलेज के पीछे से लेकर पाठक श्री राधाकृष्ण मंदिर तक आता है। इस वार्ड के चारों ओर भारी यातायात का आवागमन होता है। यहां की मुख्य सड़कों का निर्माण एमपीआरडीसी द्वारा किया गया। सड़कों के साथ ही यहां नाली निर्माण में व्यापक पैमाने पर तकनीकी खामियां बरती गईं थीं, जिससे सीधा फायदा तत्कालीन एमपीआरडीसी के ठेकेदार को पहुंचाया था, इस तरह भ्रष्ट मानसिकता के चलते ठेकेदार का फायदा तो करा दिया था, लेकिन सिविल वार्ड 8 के रहवासी व यहां स्थित स्कूल व कॉलेज के लिए सालों की समस्या बन कर रह गई। यह समस्या है बारिश होने पर इस वार्ड में जल भराव की यह स्थिति है कि बारिश रुकने के बाद मुख्य नाली का पानी छोटी नालियों से रिवर्स होकर स्कूल प्रांगण, घरों व खाली मैदान में भरने लगता है। इससे कॉलेज का मैदान में प्रभावित होता है, जिससे खिलाडिय़ों को खेलने के लिए परेशानी का सामना करना पड़ता है।
गलियों में सफाई की समस्या
इस वार्ड में संकरी नालियां हैं, जिन पर लोगों द्वारा चबूतरे या प्लेटफार्म के पक्के निर्माण कर लिए हैं, जिससे नाली सफाई नहीं हो पाती है, जहां ओपन नाली मिलती है, वहां कचरा हटा दिया जाता है, जिससे कई जगह अतिक्रमण के कारण नालियां चोक होने से पानी भरने की समस्या होती है।
वार्ड पार्षद अमर सिंह राजपूत का कहना है कि 5 नाली निर्माण व 5 सीसी रोड निर्माण के साथ एक पेवर ब्लॉक रोड निर्माण के प्रस्ताव डाले हैं। वार्ड का मुख्य एजेंडा एमपीआरडीसी का नाला और छोटी नालियां हैं। जिसमें चैंबर सिस्टम का प्रस्ताव डाला जा रहा है। ओपन नालियां परेशानी का कारण बन रही हैं। पिछले दिनों उन्होंने अग्रवाल स्कूल के पास एमपीआरडीसी की नाली सफाई कराई थी, इसके बाद 20 मिनट का पानी गिरा तो देखा मुख्य नाला का पानी स्कूल की छोटी नाली से रिवर्स होने लगा और देखते ही मैदान में पानी भर गया था, जो बड़ी समस्या है, एमपीआरडीसी के कारण उनका पूरा वार्ड ध्वस्त हो जाता है।
Copyright © 2023 Patrika Group. All Rights Reserved.