दमोह. जिला मुख्यालय के बस अड्डा से रवाना होने वालीं बसें हों या तहसील मुख्यालय से रवाना होने वालीं बसें हों। इनमें अधिकांश बसों की हालत कंडम स्थिति में देखी जा सकती है। स्टेट हाइवे व जिले के भीतर संचालित कंडम बसों में बैठे यात्रियों की जान दाव पर है। लेकिन इन बसों के संचालन पर रोक नहीं लग रही है। किसी बस में गेट नहीं तो किसी बस में बैठने के लिए सीटें पर्याप्त नहीं, तो कोई बस के शीशे गायब हैं तो अधिकांश बसों में रिमोल्ड टायर डले हुए हैं। इसके अलावा बस संचालन के लिए जरुरी अन्य परिवहन नियम भी बस संचालकों द्वारा पूरे नहीं किए जा रहे हैं। खासबात यह है कि बसों की हालत चलने लायक नहीं होने के बावजूद भी इन्हें आरटीओ द्वारा फिटनेस प्रमाण पत्र जारी किए जा रहे हैं।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned