scriptSweetness of Bundelkhand | समधी और समधन के रिश्तों की मिठास को बढ़ाता आ रहा है बुंदेलखंड का गाढिय़ा घुल्ला | Patrika News

समधी और समधन के रिश्तों की मिठास को बढ़ाता आ रहा है बुंदेलखंड का गाढिय़ा घुल्ला

बुंदेलखंड की मिठास घढिय़ा घुल्ला, मकर संक्राति पर बाजार में नजर आने लगती है बुंदेलखंड की प्रसिद्ध मिष्ठान घढिय़ा घुल्ला

दमोह

Published: January 14, 2022 06:28:11 pm

दमोह/ हटा. बुंदेलखंड के लोगों का स्वाद व परंपराएं देश भर में अपनी अलग ही पहचान रखतीं हैं। इन्हीं में शामिल ग्रामीण परिवेश की मिठाईयां हैं, प्राचीनकाल से अब तक चलन में हैं। खास तौर पर मकर संक्रांति के पर्व पर गढिय़ा घुल्ला नामक मिठाई लोगों की पहली पसंद बनी हुई है। इस बार भी संक्राति के इस मौके पर बाजारों में बुदेली संस्कृति की झलक देखने को मिल रही है। बता दें कि यह मिठाई सिर्फ शक्कर मात्र से ही बनाई जाती है।
समधी और समधन के रिश्तों की मिठास को बढ़ाता आ रहा है बुंदेलखंड का गाढिय़ा घुल्ला
Sweetness of Bundelkhand
इस मिठाई की बनावट में रंगों का इस्तेमाल कर उसे प्रसिद्ध स्मारक, घोड़ा, हाथी, हिरण सहित अन्य प्राणियों की शक्ल दे दी जाती है। मकर संक्रांति के 5 दिन पहले से ही इसको तैयार किया जाने लगता है। मकर संक्रांति के दिन इसका पूजन होता है और फिर पूरे 15 दिन तक गाढिय़ा घुल्ला पूरे इलाके में मिठास फैलाती है। कई पीढिय़ों से गाढिय़ा घुल्ला बनाने का काम दमोह जिले में हो रहा है, जिसकी मांग प्रदेश भर में होती है। वहीं गाढिय़ा घुल्ला से धार्मिक मान्यताएं और संस्कृति भी जुड़ी हुई हैं। जानकार बताते हैं कि इसका प्रचलन महाभारत काल के बाद बढ़ा और अब तक गढिय़ा घुल्ला अपनी मिठास से लोगों को लुभा रही है।
लोगों का कहना है कि विशेष रूप से नवविवाहिता बहू को लेने के लिए आने पर ससुराल पक्ष के लोग पीतल के बर्तन में इस गढिय़ा घुल्ला को भरकर लाते हंै और मायके पक्ष को गढिय़ा घुल्ला का पात्र सौंपते हंै। बुजुर्ग बताते हंै कि ससुराल पक्ष से समधी मायके पक्ष की समधन को गढिय़ा घुल्ला का यह पात्र ले जाकर सौंपते हैं, ताकि दोनों परिवारों में ऐसी ही मिठास जीवनभर बनी रही। मकर संक्राति पर्व पर इस मिष्ठान का भगवान को भोग लगाकर पूजन अर्चना की जाती है, लेकिन आधुनिक मिठाइयों में इसकी चमक भी फीकी होती जा रही है।
गढिय़ा घुल्ला, यह एक खास मिष्ठान ।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

SSB कैंप में दर्दनाक हादसा, 3 जवानों की करंट लगने से मौत, 8 अन्य झुलसे3 कारण आखिर क्यों साउथ अफ्रीका के खिलाफ 2-1 से सीरीज हारा भारतUttar Pradesh Assembly Election 2022 : स्वामी प्रसाद मौर्य समेत कई विधायक सपा में शामिल, अखिलेश बोले-बहुमत से बनाएंगे सरकारParliament Budget session: 31 जनवरी से होगा संसद के बजट सत्र का आगाज, दो चरणों में 8 अप्रैल तक चलेगानिलंबित एडीजी जीपी सिंह के मोबाइल, पेन ड्राइव और टैब को भेजा जाएगा लैब, खुल सकते हैं कई राजएसईसीएल ने प्रभावित गांवों को मूलभूत सुविधा देना किया बंद, कोल डस्ट मिले पानी से बर्बाद हो रहे हैं खेततीसरी लहर का खतरनाक ट्रेंड, डाक्टर्स ने बताए संक्रमण के ये खास लक्षणInd vs SA: चेतेश्वर पुजारा कर बैठे बड़ी भूल, कीगन पीटरसन को दिया जीवनदान; हुए ट्रोल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.