हॉफ पेंट, शर्ट में स्कूल पहुंच रहे नौनिहाल

शासन ने यूनीफार्म की राशि बढ़ाई, लेकिन ठेकेदारों ने साइज छोटी कर पहुंचाई

By: Rajesh Kumar Pandey

Published: 30 Dec 2018, 12:47 PM IST

मडिय़ादो. कड़कड़ाती ठंड में विद्यार्थिंयों को हाफ पेंट, शर्ट पहन कर स्कूल जाना पड़ रहा है। जो इन विद्यार्थिंयों की मजबूरी है। दरअसल विद्यार्थिंयों को जो यूनीफार्म शासन के द्वारा मुफ्त में प्रदान की गई है। उसे इसी तरह बनाया गया है। नतीजतन कड़कड़ाती ठंड के चलते बच्चों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। स्कूलों में विद्यार्थियों को कांपते हुए आते जाते देखा जा सकता है। दो यूनीफार्म की कीमत है ६०० रुपए राज्य शिक्षा केंद्र के नए आदेश के तहत बच्चों को वितरण होने वाली दो यूनीफार्म की कीमत इस सत्र में २०० रूपए बड़ाई गई है। जबकी बीते वर्ष दो जोड़ी यूनीफार्म की कीमत 400 रुपए ही थी जो सीधे विद्यार्थिंयों के बैंक खातों में जमा की जाती थी। उस राशि से विद्यार्थी दो जोड़ी फुल पैंट खरीद कर पहनते थे। लेकिन इस सत्र में विद्यार्थियों को मध्यप्रदेश डे राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के कुशल स्व सहायता समूहों व संगठनों के द्वारा तैयार कर विद्यार्थियों तक पहुंचाई गई है। जिसमें विद्यार्थियों को हाफ पेंट के साथ शर्ट दी जा रही है, जो विद्यार्थियों के लिए ठंड के सीजन में परेशानी का करण साबित हो रही है।
अभिभावक नन्नू कुशवाहा, पवन आदीवासी का कहना है कि पहले 400 रुपए यूनीफार्म के लिए बच्चों के दिए जाते थे, जिस राशि में दो यूनीफार्म आ जाती थी। लेकिन अब ६०० रुपए में तैयार कर दी गई यूनीफार्म में गुणवत्ता की अनदेखी के साथ यूनीफार्म हाफ दी गई है, जो गलत है।
अन्य अभिभावक भी शासन की यूनीफार्म योजना में भारी गड़बड़ी का आरोप लगा रहे हंै। यूनीफार्म के नाम पर भारी भ्रष्टाचार सामने आने का लोग आरोप लगा रहे है। इसकी जांच कर संबंधितों पर कार्रवाई की जाना चाहिए।
हम क्या कर सकते हैं
बात ठीक है प्राथमिक स्कूलों में विद्यार्थिंयों को जो यूनीफार्म दी गई है। वह ठंड के मौसम में बच्चों के लिए अनूकूल नहीं है। यूनीफार्म राज्य शिक्षा केंद्र के निर्देश अनुसार वितरण की गई है। जिस कारण से हम कुछ कह नहीं सकते हैं।
टीआर कारपेंटर, बीआरसी, हटा

Rajesh Kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned