भितरघात के आरोप पर विफरे पूर्व वित्तमंत्री, कहा- 'शिवराज जी तो हार की जिम्मेदारी लेंगे नहीं, इसलिये मुझपर फोड़ा गया ठीकरा

दमोह उचुनाव में हार मिलने के बाद भितरघात का आरोप लगने पर पहली बार बोले जयंत मलैया...।

By: Faiz

Published: 09 May 2021, 10:04 AM IST

दमोह/ मध्य प्रदेश में हालही में संपन्न हुए दमोह उप-चुनाव में हार के बाद भारतीय जनता पार्टी की और से प्रत्याशी रहे राहुल लोधी द्वारा जिले के दिग्गज भाजपा नेता, 7 बार के विधायक और पूर्व वित्तमंत्री जयंत मलैया पर लगाए गए भितरघात के आरोपों के बाद आखिरकार उन्होंने चुप्पी तोड़ दी है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, चुनाव में पार्टी की ओर से उम्मीदवार राहुल सिंह लोधी की हार का जिम्मेदार मलैया को मानते हुए उनके खिलाफ पार्टी ने नोटिसजारी किया। साथ ह उनके बेटे सिद्धार्थ मलैया समेत पांच अन्य सदस्यों को पार्टी से निलंबित कर दिया है।

 

पढ़ें ये खास खबर- ग्लूकोज और नमक मिलाकर नकली कंपनी बना रही थी रेमडेसिविर, MP के इन शहरों समेत देशभर में बेच डाले 1 लाख से ज्यादा इंजेक्शन

'अपने-अपने वॉरेड तक नहीं बचा पाए अधिकतर भरोसेमंद, फिर भी हार का जिम्मेदार मैं'

भितरघत के आरोप पर विफरे जयंत मलैया ने नोटिस के संबंध में जवाब देते हुए कहा कि, 'भारतीय जनता पार्टी सिर्फ मेरा बूथ ही नहीं हारी, बल्कि भाजपा की ओर से चुने गए प्रत्याशी राहुल लोधी खुद भी अपना वार्ड हारे हैं। यही नहीं केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल भी जिस वॉर्ड में रहते हैं, वहां से पार्टी को हार मिली है। जिला पंचायत और नगर पालिका अध्यक्ष के वार्ड से भी प्रत्याशी को वोट नहीं मिला है। उन्होंने जवाब देते हुए कहा कि, अब शिवराज जी स्वयं तो हार की जिम्मेदारी लेगे नहीं और हार का ठीकरा किसी न किसी पर तो फोड़ना ही था, तो मुझ पर और मेरे बेटे पर फोड़ दिया। बस इतनी सी बात है।' उन्होंने कहा कि, 'मैं खुद मुख्यमंत्री की सभाओं में रहा, भाषण दिए, बैठकें भी लीं। सिद्धार्थ को 10 अप्रैल से संगठन मंत्री शैलेंद्र बरुआ के साथ काम पर लगाया गया। मुझे एक दिन के लिए हेलिकाॅप्टर मिला, जिसमें मैंने नॉनस्टाप 5 सभाएं कीं। फिर भी हार का कारण मैं हूं, ये कोई कैसे कह सकता है।'

 

पढ़ें ये खास खबर- मंत्री के प्रतिनिधि का अस्पताल पर कब्जा! रुपए लेकर बेड दिलाने का आरोप, प्रभारी डॉक्टर को व्यवस्था सुधारना पड़ा भारी


'प्रह्लाद पटेल से मेरी नहीं बनती, इसलिये लगाया आरोप'

मलैया के मुताबिक, हार का ठीकरा मुझपर फोड़ने की एक वजह ये भी है कि, मेरी केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद पटेल से बनती नहीं। उन्होंने राज्यसभा सांसद की सभा में मुझे और गोपाल भार्गव को पूतना (छलकपटी) कह दिया था। यही नहीं उन्होंने तो सभा में मुझसे यहां तक कह दिया था कि, लड़ना है, तो मुझ से लड़ो, राहुल लोधी से क्यों लड़ रहे हो? इससे माहौल ज्यादा खराब हो गया। उन्हें सार्वजनिक मंच से ऐसा नहीं कहना चाहिये था। मलैया ने कहा कि, मैंने इस संबंध में सीएम से कह भी दिया था कि, भले ही आगे मुझे या मेरे बेटे को टिकट न भी मिले, पर मान-सम्मान तो मिलना चाहिए। तब शीएम शिवराज ने मुझसे कहा था कि, पूरी जानकारी दिल्ली में संगठन महामंत्री को बताएंगे।

 

पढ़ें ये खास खबर- Best Mother's Day gifts in 2021 : इस मदर्स-डे मां को तोहफे में दें ये खास चीजें, दुख की ये घड़ी भी बन जाएगी खास


'2-3 दिन में दूंगा जवाब, दिल्ली को भी कुछ बताना जरूरी है'

मलैया ने कहा कि चुनाव का परिणाम आने से पहले ही राहुल से कहलवा दिया या उनके खुद ही कहा कि मलैया के कारण हार गए। अब नोटिस मिला है, तो 2-3 दिन में भोपाल जाकर जबाव दूंगा। उन्होंने यह भी कहा कि इसके बाद दिल्ली जाऊंगा। कुछ ऐसी बातें हैं, जो दिल्ली में बताना जरूरी हैं।

 

 

कोरोना वैक्सीन से जुड़े हर सवाल का जवाब - जानें इस वीडियो में

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned