घोघरा के जंगल में घूम रहा Tiger, मिले फुट प्रिंट

Rajesh Kumar Pandey

Publish: Feb, 15 2018 01:45:01 PM (IST)

Damoh, Madhya Pradesh, India
घोघरा के जंगल में घूम रहा Tiger, मिले फुट प्रिंट

कैमरे से होगी निगरानी

यूसुफ पठान मडिय़ादो. बाघ विहीन हो चुका मडिय़ादो का जंगल एक बार फिर बाघों की दहाड़ से गूंजने वाला है। मंगलवार को जिले की घोघरा वीट में एक बाघ के फुट प्रिंट मिलने की वन विभाग द्वारा पुष्टि की गई है। मडिय़ादो से लगभग 12 किमी दूरी पर घोघरा के जंगल में एक बाघ के फुट प्रिंट जंगल में मिलने का दावा वन विभाग ने किया है।
उल्लेखनीय है कि 10 फरवरी को मडिय़ादो-चौरईया मार्ग पर मडिय़ादो निवासी विष्णु सोनी, दुर्गा रैकवार सहित आधा दर्जन लोगों के द्वारा दो शावकों के साथ बाघिन को देखने का दावा किया था, वह स्थान घोघरा बीट से लगा हुआ है। अब वन विभाग के घोघरा बीट में बाघ के फुट प्रिंट देखने की के बाद यह स्पष्ट हो गया है कि जंगल बाघ, बाघिन विचरण कर रही है। स्पष्ट हो चुकी है कि जंगल में कोई न कोई बाघ या बाघिन विचरण कर रही है।
मिले चौकाने वाले आंकड़े
हाल ही में फस्र्ट फेज के सर्वे के दौरान चौंकाने वाली जानकारी मिली है। किशनगढ़ और मडिय़ादो बफरजोन में लगभग आधा दर्जन बाघ व 50 से अधिक तेंदुआ के होने का अनुमान लगाया जा रहा है, हालांकि विभाग अभी संख्या की पुष्टि तो नहीं कर रहा है, लेकिन यह दावा कर रहा है कि बाघ व तेंदुआ बड़ी संख्या में बफरजोन में डेरा जमा रहे हैं। दरअसल पन्ना टाइगर रिजर्व को किशनगढ़ कोर से बफर के जंगल लगे हुए हैं। बाघ कोर-जोन से निकल कर किशनगढ़ से मडिय़ादो बफर जोन में आते-जाते रहते हैं। जिस कारण इस बात की पुष्टि विभाग के द्वारा नहीं की जा रही है, जिन बाघों के फुट प्रिंट, विष्टा व गारा आदी के निशान मिले है, वह बाघ अभी कोर में वापिस चले गए हंै या फिर बफरजोन में ही विचरण कर रहे हंै।
लगेगें 30 बीटो में 210 कैमरे
फेज टू की गणना और वन्यजीवों की गतिविधियों की जानकारी लेने के लिए मडिय़ादो और किशनगढ़ रेंज की सभी 30 वीटों में विभाग के द्वारा कैमरे लगाने की कवायद शुरू की गई है। विभाग के द्वारा दोनो रेंज में 210 कैमरे लगाए जा रहे है। कैमरों उस खास पाइंट पर लगाए जाएंगे। जहां बाघ या तेंदुआ हो सकते है। इसके बाद सटीक जानकारी स्पष्ट हो सकेगी।

संभावना है
किशनगढ़/मडिय़ादो बफरजोन में अनुमान लगाया जा रहा है, कि बाघ और तेंदुआ विचरण कर रहे है। अभी बाघ और तेंदुओं की गिनती बता पाना जल्दबाजी होगी। लेकिन यह बात तय है, कि संख्या में इजाफा हुआ है। मडिय़ादो के घोघरा बीट में बाघ के फुट प्रिंट मिले हंै। जिससे जंगल में बाघ होने की पूरी संभावना है। लोग जंगल में जाने में सावधानी बरते। बाघ अनकॉलर होने से तलाश करने में समस्या होती है। विभाग की टीमों को अलर्ट किया है तलाश कर रहे है।
राजेंद्र सिंह नरगेश वन परिक्षेत्र अधिकारी पीटीआर

1
Ad Block is Banned