scriptVillage government formed before elections | MP में यहां चुनाव से पहले बनी गांव की सरकार | Patrika News

MP में यहां चुनाव से पहले बनी गांव की सरकार

- यहां नारी ही नारायणी

- पति ने पिछली बार बनाया था जीत का रेकॉर्ड, अब पत्नी ने फहराया परचम

- बालाघाट जिले की बघोली और दमोह की कुंवरपुर खेजरा पंचायत में सभी पदों पर महिलाएं निर्विरोध

दमोह

Published: June 07, 2022 08:52:48 am

दमोह। दमोह जनपद की कुंवरपुर खेजरा ग्राम पंचायत की सरपंच सीट सहित सभी 17 पंच निर्विरोध निर्वाचित हुए हैं। इस पंचायत के चुनाव की एक और खास बात यह है कि सरपंच के अलावा अन्य पद सभी वर्गों के थे, लेकिन पंचायत के किसी भी पुरुष ने नामांकन फॉर्म नहीं भरा, जिससे सरपंच सहित सभी 17 पदों पर महिलाएं निर्विरोध निर्वाचित हुईं हैं।

पिछले पंचवर्षीय चुनाव में यह वही पंचायत है, जिसके सरपंच सोमेश गुप्ता प्रदेश में सर्वाधिक मतों से जीते थे और उन्हें सरपंच संघ का प्रदेशाध्यक्ष बनाया गया था। पिछली बार उन्हें 1580 कुल वोटों में से 1512 वोट मिले थे। इस बार उनकी पत्नी मीना ने अनुसूचित जाति की सीट पर परचम लहराते हुए निर्विरोध जीत हासिल की है।

damoh-election.png

सोमेश गुप्ता ने बताया कि इस बार उनकी ग्राम पंचायत अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित हुई थी। उन्होंने अंतरजातीय विवाह किया था। पत्नी अनुसूचित जाति से हैं और इसलिए उन्होंने उनका नामांकन दाखिल कराया। नामांकन दाखिल करने से पहले ही गांव के सभी लोगों ने बैठकर सर्वसम्मति से तय किया कि इस बार सरपंच और पंच निर्विरोध चुने जाएंगे। जिस पर सभी ग्रामीणों ने अपनी सहमति की मुहर लगाई।

सीएम की मंशा समरस पंचायत
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पिछले दिनों समरस पंचायत का ऐलान किया था। उनकी मंशानुरूप ये दोनों पंचायतें हैं।

ये किए थे ऐलान
ऐसी ग्राम पंचायत जिसके सरपंच निर्विरोध हों, उन्हें रु.5 लाख का पुरस्कार।
सरपंच पद के लिए वर्तमान निर्वाचन व पिछला निर्वाचन निरंतर निर्विरोध होने पर रु.7 लाख का पुरस्कार।
पंचायत में सरपंच-पंच के सभी पदों पर महिलाओं का निर्वाचन निर्विरोध रूप से हो तो पुरस्कार राशि रुपए 15 लाख रुपए तय की गई है।

इधर, सर्वसहमति से आधी आबादी ने बना ली सरकार
वहीं बालाघाट जिले की ग्राम पंचायत बघोली के लोगों ने मिसाल पेश की है। बैठक बुलाकर इस वर्ष पंचायत चुनाव नहीं कराने का निर्णय लिया गया। सहमति बनाकर गांव की सरकार चुन ली। यहां न केवल ग्रामीणों ने आपसी सहमति से अपना सरपंच चुना, बल्कि उप सरपंच और पंचों का भी चयन किया।
इसमें खास बात यह भी है कि 1484 वोटर्स वाली इस पंचायत में महिलाओं की 100 प्रतिशत भागीदारी सुनिश्चित करते हुए सरपंच से लेकर सभी 15 पंच महिलाएं हैं। दरअसल, सोमवार को नामांकन जमा करने की अंतिम थी। दोपहर 3 बजे के बाद तक इस पंचायत से सरपंच के लिए पुष्पा बाहेश्वर, उपसरपंच के लिए मोहेश्वरी खंदारे समेत पंचों ने फॉर्म जमा किए। इनके अलावा किसी दूसरे प्रत्याशी ने इस पंचायत से नामांकन दाखिला नहीं किया है।
सिंगरौली: पंचायत में सभी 17 पंच निर्विरोध
दूसरी ओर सिंगरौली जिले के चितरंगी जनपद पंचायत के खम्हारडीह ग्राम पंचायत में सरपंच के साथ सभी 17 पंच निर्विरोध हंै। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के निर्वाचन प्रक्रिया के तहत 6 जून को नामांकन की अंतिम तिथि थी। ग्राम पंचायत में न ही सरपंच प्रत्याशी लखपति साकेत के विरुद्ध किसी ने पर्चा भरा और न ही पंचों के विरुद्ध कोई नामांकन हुआ।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

महाराष्ट्र की राजनीति में बड़ा उलटफेर: एकनाथ शिंदे ने ली मुख्यमंत्री पद की शपथ, देवेंद्र फडणवीस बने डिप्टी सीएमMaharashtra Politics: बीजेपी ने मौका मिलने के बावजूद एकनाथ शिंदे को क्यों बनाया सीएम? फडणवीस को सत्ता से दूर रखने की वजह कहीं ये तो नहीं!भारत के खिलाफ टेस्ट मैच से पहले इंग्लैंड को मिला नया कप्तान, दिग्गज को मिली बड़ी जिम्मेदारीउदयपुर कन्हैयालाल हत्याकांडः कानपुर से आतंकी कनेक्शन, एनआईए की टीम जल्द जा कर करेगी छानबीनAgnipath Scheme: अग्निपथ स्कीम के खिलाफ प्रस्ताव पारित करने वाला पहला राज्य बना पंजाब, कांग्रेस व अकाली दल ने भी किया समर्थनPresidential Election 2022: लालू प्रसाद यादव भी लड़ेंगे राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव! जानिए क्या है पूरा मामलाMumbai News Live Updates: शरद पवार ने किया बड़ा दावा- फडणवीस डिप्टी सीएम बनकर नहीं थे खुश, लेकिन RSS से होने के नाते आदेश मानाUdaipur Murder: आरोपियों को लेकर एनआईए ने किया बड़ा खुलासा, बढ़ी राजस्थान पुलिस की मुश्किल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.