scriptWoman power protested on the 27th day by tying a red sari on her foreh | लाल साड़ी माथे पर काली पट्टी बांध नारी शक्ति ने 27वें दिन किया विरोध | Patrika News

लाल साड़ी माथे पर काली पट्टी बांध नारी शक्ति ने 27वें दिन किया विरोध

नारी शक्ति के पर्व पर धरना स्थल पर ही की शक्ति की आराधना

 

दमोह

Updated: April 02, 2022 08:53:02 pm

दमोह. मां शक्ति का आराधना का पर्व शनिवार से प्रारंभ हो गया है, मां जगत जननी ने कालांतर में 9 स्वरूपों में तात्कालिक समस्याओं का संहार किया था, वर्तमान जीवन में भी अनेक समस्याएं हैं, जिनका निदान नहीं हो रहा है। पिछले 27 दिनों से आंगनबाड़ी कार्यकर्ता अपनी मांगों को लेकर हड़ताल पर बैठी हैं, लेकिन उनकी समस्याएं हल नहीं हो रही है। शनिवार को नवरात्र के प्रथम दिन सभी कार्यकर्ताएं लाल साड़ी में माथे पर पट्टी बांधकर अपने बच्चों के साथ बैठी थी।
महिला बाल विकास के तहत कार्यरत आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, सहायिका अल्प मानदेय पर गांव-गांव में शासन की योजनाओं को अमली जामा पहुंचाने की भूमिका निभाती हैं। इन्हें अब तक कर्मचारी का दर्जा नहीं मिला है। नारी शक्ति और महिला सशक्तिकरण के दावों के बीच इन महिलाओं द्वारा लगातार अपनी 11 सूत्रीय मांगों को लेकर आंदोलन किया जा रहा है। इनकी प्रमुख मांग है कि राज्य सरकार के कर्मचारी का उन्हें दर्जा दिया जाए। पेंशन की व्यवस्था की जाए।
नवरात्र पर करेंगी बुलंद आवाज
आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की पहली बार सबसे लंबी हड़ताल खिंच रही है। प्रदेश के 22 जिलों में यह हड़ताल जारी है, जिसमें दमोह शामिल है। लगातार हड़ताल करने के बाद शासन की ओर से दो शब्द भी आंदोलन नारी शक्ति के पक्ष में सामने नहीं आए हैं, जिससे अब यह अपनी आवाज बुलंद भोपाल में करने की तैयारी कर रहीं हैं। 5 अप्रेल से भोपाल में ही प्रदेश भर की आंगनबाड़ी कार्यकर्ता आंदोलन में समाप्त होंगी।
हड़़ताल के दिनों की वेतन भी नहीं
आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को शासकीय कर्मचारी का दर्जा नहीं है, जिससे उनकी अनुपस्थिति के दिनों का वेतन नहीं मिलेगा। आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का कहना है कि शासकीय सेवक की पात्रता न होने के कारण 27 दिन के वेतन का नुकसान हो चुका है, कई जिलों में बर्खास्तगी की कार्रवाई की जा रही है, जिससे भी आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं व शासन व प्रशासन के बीच आरपार की लड़ाई छिड़ गई हैं।
तपते पंडाल में दिन भर बच्चों के साथ
पिछले 27 दिनों से देखा जा रहा है कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ता छोटे-छोटे बच्चों के साथ दिन भर पतले पर्दे वाले पंडाल में तेज गर्मी झेल रही हैं, उनके छोटे बच्चे भी गर्मी में हलाकान हो रहे हैं। बच्चों व महिलाओं की हितैषी सरकार व प्रशासन को कड़ी धूप में बैठी महिलाओं की चिंता नहीं है, उल्टे उन पर कार्रवाई का डंडा चलाकर उनका आंदोलन खत्म कराने के प्रयास पिछले 27 दिनों से किए जा रहे हैं।
आंगनबाड़ी स्तर के कामकाज प्रभावित
महिला बाल विकास विभाग के सहारे ही सरकार अपनी योजनाओं का क्रियान्वयन कराती है, चाहे स्वास्थ्य हो सर्वे हो या कोरोना काल में कोविड मरीजों की पहचान व उनके घरों में व्यवस्थाएं कराने की जिम्मेदारी इन्हीं से पूरी कराई गई है। कुपोषित बच्चों व महिलाओं के अलावा टीकाकरण व पोषण आहार का वितरण इनके द्वारा किया जाता है जो वर्तमान में जिले में ठप चल रहा है। महिला बाल विकास की योजनाओं का क्रियान्वयन नहीं हो पा रहा है।
Woman power protested on the 27th day by tying a red sari on her foreh
Woman power protested on the 27th day by tying a red sari on her foreh
 

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिंदबरम के बेटे के घर पर CBI की रेड, कार्ति बोले- कितनी बार हुई छापेमारी, भूल चुका हूं गिनतीकुतुब मीनार और ताजमहल हिंदुओं को सौंपे भारत सरकार, कांग्रेस के एक नेता ने की है यह मांगकोर्ट में ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट पेश होने में संशय, दूसरी ओर सुप्रीम कोर्ट में एक बजे सुनवाई, 11 बजे एडवोकेट कमिश्नर पहुंचेंगे जिला कोर्टहरियाणा: हरिद्वार में अस्थियां विसर्जित कर जयपुर लौट रहे 17 लोग हादसे के शिकार, पांच की मौत, 10 से ज्यादा घायलConstable Paper Leak: राजस्थान कांस्टेबल परीक्षा रद्द, आठ गिरफ्तार, 16 मई के पेपर पर भी लीक का सायाShivling In Gyanvapi: असदुद्दीन ओवैसी का अजीबोगरीब दावा, ज्ञानवापी में शिवलिंग नहीं, फव्वारा मिलाशिवलिंग मिलने के बाद वायरल हुआ ज्ञानवापी का वीडियों, आप खुद ही देखें क्या है सच्चाईनारी शक्ति : दूल्हे और उसके दोस्तों का हुड़दंग देखकर दुल्हन ने लौटाई बारात, दूसरे के संग लिए फेरे
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.