अतिक्रमण हटाने गए दस्ते पर महिलाओं और बच्चों ने फैंके पत्थर

चलते ट्रैक्टर के सामने बाइक अड़ा कर गिराई फिर चालक का तोड़ा हाथ

By: Rajesh Kumar Pandey

Published: 12 Jul 2021, 09:56 PM IST

दमोह. पॉलीटेक्निक कॉलेज पहाड़ी के पीछे वन भूमि पर अवैध अतिक्रमण है। हाल ही में नए निर्माण किए जा रहे हैं। जिन्हें हटाने वन अमला व राजस्व अमला पहुंचा था। बगैर पुलिसबल और बगैर बुल्डोजर के पहुंचे वन अमला नए बने मकान हाथों से गिरा ही रहा था कि भीड़ एकत्रित हो गई। बच्चे और महिलाएं पत्थर फैंकने लगे। सामग्री उठाने ट्रैक्टर आता देख एक युवक ने ट्रैक्टर के सामने बाइक गिराकर ड्राइवर पर हमला करते हुए उसका हाथ तोड़ दिया। श्रमिकों के साथ मारपीट की गई। हमला करने के बाद महिलाएं और बच्चे कलेक्ट्रेट पहुंचकर हंगामा करते हुए अपने ऊपर वन अमले द्वारा हमला किए जाने का आरोप लगाते हुए एक शिकायत दी।पॉलीटेक्निक कॉलेज के पीछे वन भूमि, राजस्व भूमि व हाऊसिंग बोर्ड पर सालों से अतिक्रमण फैले हुए हैं। इन अतिक्रमणकर्ताओं के लिए प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत समन्ना बायपास के पास मकान भी बनाए गए, लेकिन वह अपने कब्जे छोडऩे तैयार नहीं है। हाल ही में खाली जमीन पर नए मकान बनने लगे हैं।
सोमवार को वन विभाग दमोह रेंजर महिपाल सिंह व दमोह तहसीलदार बबीता राठौर वन व राजस्व अमले के साथ अतिक्रमण विरोधी कार्रवाई करने पहुंचे थे। इस कार्रवाई में पुलिस बल उपलब्ध नहीं हो पाया था और न ही बुल्डोजर मिला था। जिससे वन अमला हाथों से नए बन रहे मकान को गिरा रहा था। आधा मकान गिर पाया कि बच्चों और महिलाओं ने घेर लिया और पत्थर बाजी करने लगे। महिलाएं गालियां देते हुए और बच्चे हंसते हुए पत्थर चला रहे थे। पत्थर बाजी होती देख मकान गिरा रहे वन कर्मी जान बचाकर भाग खड़े हुए राजस्व अमला थोड़ी दूर खड़ा था जिससे वह पत्थरबाजी से बच गया।
ट्रैक्टर के सामने गिराई बाइक फिर पीटा
वन अमले द्वारा ढहाए जा रहे मकान की सामग्री उठाने के लिए वन विभाग ने ट्रैक्टर ट्रॉली बुलवाई थी, जैसे ही ट्रैक्टर आगे बढ़ा तो एक युवा ने ट्रैक्टर के आगे बाइक अड़ाई फिर चलते ट्रैक्टर के नीचे गिरा दी। बाइक ट्रैक्टर में दबते ही युवक के साथ पहले से योजना बनाए 5-6 लोगों ने हमला कर दिया। जिसमें ट्रैक्टर चालक गोविंद पटेल का हाथ तोड़ दिया व श्रमिक चैना अहिरवार के पैर व पीठ में गंभीर चोटें आई हैं। बच्चों और महिलाओं की गई पत्थर बाजी से श्रमिक पन्नालाल, जग्गा व गोरेलाल व नारायण को चोटें आई हैं।
हमला करने के बाद कलेक्ट्रेट में किया हंगामा
बच्चों व महिलाओं की भीड़ पत्थरबाजी व पिटाई करने के बाद 50-60 की भीड़ में कलेक्ट्रेट पहुंच गई। जहां पर वन अमले पर ही उल्टा मारपीट व गर्भवती महिलाओं से मारपीट करने का आरोप लगाते हुए एडीएम नाथूराम गौड़ को एक शिकायत पत्र सौंपा है। जिसमें वन अमले पर मामला दर्ज करने की मांग की है।
इनके खिलाफ हुआ मामला दर्ज
ट्रैक्टर चालक के साथ मारपीट करने पर मस्तराम, रोहिणी, मोहित, जयराम के अलावा वन अमले व श्रमिकों पर हमला करने के आरोप में अन्य महिलाओं व पुरुषों के खिलाफ ेेअलग-अलग एफआइआर दर्ज कराई गई है। वहीं अतिक्रमणकारियों द्वारा एडीएम को सौंपी शिकायत जांच की विवेचना की जा रही है।
वन भूमि को हर हाल में मुक्त कराएंगे
रेंजर महिपाल सिंह का कहना है कि पुलिस फोर्स के लिए उन्होंने पत्र लिखा था, कार्रवाई के पहले वह स्वयं एसपी कार्यालय गए थे, लेकिन उन्हें फोर्स न देकर दो सिपाही उपलब्ध कराए गए थे। बुल्डोजर की मांग की गई थी, जो भी उपलब्ध नहीं हुआ था। महिलाओं व बच्चों के साथ जो पुरुषों ने मारपीट की है, उसकी पूरी विडियोग्राफी है, उल्टा आरोप लगाकर अतिक्रमणकारी बच नहीं सकते हैं। जिनके खिलाफ एफआइआर भी दर्ज कराई जा रही है। अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई नहीं रुकेगी अब हर हाल में बच्चे व पक्के मकान हटाए जाएंगे।

 
Rajesh Kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned