गाजे-बाजे और आतिशबाजी के बीच माईजी की डोली को जवानों ने दी सलामी

गाजे-बाजे और आतिशबाजी के बीच माईजी की डोली को जवानों ने दी सलामी
Bastar dussehra

Ajay Shrivastava | Publish: Oct, 09 2016 11:38:00 PM (IST) Jagdalpur

अष्टमी पर मंदिर तथा भैरमबाबा की पूजा-अर्चना बाद माईजी की छत्र व डोली को मंदिर से रवाना किया। गाजे-बाजे और आतिशबाजी के बीच माईजी की डोली को सशस्त्र सलामी दी गई।

दतेवाड़ा. शारदीय नवरात्र के अष्टमी पर विशेष पूजा के बाद मां दंतेश्वरी की डोली ऐतिहासिक बस्तर दशहरा में शामिल होने जगदलपुर रवाना हुई।

अष्टमी पर मंदिर तथा भैरमबाबा की पूजा-अर्चना बाद माईजी की छत्र व डोली को मंदिर से रवाना किया। गाजे-बाजे और आतिशबाजी के बीच माईजी की डोली को सशस्त्र सलामी दी गई।

रविवार को अष्टमी पर माईजी की विशेष पूजा के बाद शाम चार बजे डोली बस्तर दशहरा में शामिल होने रवाना हुई। माईजी के पुजारी और भक्तों ने मंदिर से डंकनी नदी तट पर स्थित रानी बगीचा तक कांधे में उठाकर लाए। जहां पुन: पूजा पाठ के बाद फूलों से सजी 10 चक्के के विशेष वाहन में डोली को जगदलपुर के लिए रवाना किया गया।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned