पुलिस आंदोलन मामला, ढ़ाई घंटे की नोंकझोंक के बाद विधायक ने कहा मैं एसपी से बड़े पद पर हूं

पुलिस आंदोलन मामला, ढ़ाई घंटे की नोंकझोंक के बाद विधायक ने कहा मैं एसपी से बड़े पद पर हूं

Badal Dewangan | Updated: 25 Jun 2018, 11:40:04 AM (IST) Dantewada, Chhattisgarh, India

विधायक व एसपसी के साथ हुई गरमा-गरम बहस, एएसपी पर लगाया आरोप, कहा अपमान किया गया उनका

दंतेवाड़ा. पुलिस परिवार के आंदोलन की आग ठंडी पडऩे की बजाए रविवार को फिर भड़क उठी है। पुलिस लाइन कारली में रह रहे परिवारों से मिलने पहुुंची विधायक देवती कर्मा और महिला मोर्चो की जिला अध्यक्ष तुलिका कर्मा को पुलिस ने गिरफ्त में ले लिया। इसके बाद पुलिस इन्हें लेकर सर्किट हाउस पहुंची। यहां मौजूद एसडीएम ने उन्हें जमानत दी।

आरोप यह लगाया है कि वे पुलिस परिवारों को आंदोलन के लिए भड़का रही थी। सर्किट हाउस में एसपी कमलोचन कश्यप से विधायक देवती कर्मा की पुलिस जवानों की मांगों को लेकर चर्चा हुई। विधायक देवती कर्मा ने कहा सबसे पहले उन जवानों को वापस लाया जाए जिनका तबादला कर दिया गया है। उन्होंने कहा आठ जवानों का तबादला किया गया है।

इस पर एसपी कश्यप ने कहा कि यह विभागीय मामला है इसमें हस्तक्षेपा करना ठीक नहीं है। विधायक देवती कर्मा ने जवानों का पक्ष लेते और परिवारों के साथ हो रही ज्यादती पर सवाल खड़े किए। इतना ही नहीं एएसपी गोरखनाथ बघेल पर आरोप लगाया है कि उन्होंने अपमान किया है। एक विधायक से किस तरह से अधिकारी को बात करनी चहिए वे भूल चुके हैं।

पहले जवानों को वापस बुलाया जाए और एएसपी गोरखनाथ बघेल का तबादला करवाया जाए। इन दोनों ही बातों से जब एसपी कमलोचन कश्यप ने मना किया तो विधायक ने एसपी की बात सुनने से इंकार कर दिया और वे सर्कि ट हाउस से उठ कर चली गई। विधायक बोली विधान सभा में उठाऊंगी इस मुद्दे को। सरकार के एजेंट बन कर काम रहे हैं पुलिस अधिकारी।

तीन घंटे चला हाइवोल्टेज ड्रामा, जवान की पत्नी की भर आईं आंखे
पुलिस लाइन कारली में विधायक देवती कर्मा परिवारों को लेकर एसपी से मिलने की बात कह रही थी। इस दौरान एएसपी गोरख नाथ बघेल और एसडीएम भी मौजूद थे। करीब ढाई घंटे तक यहां हाइवोल्टेज ड्रामा चलता रहा। विधायक देवती कर्मा की नोंक झोंक अधिकारियों से चल रही थी। इसी बीच एक जवान की पत्नी विधायक के पास पहुंची। उसकी आंखों में आंसू थे। बच्चे को गोद में लेकर बोली पति का ताबदला कर दिया गया। ट्रांसफर ऑर्डर लेकर आया तो उसने बुरी तरह से पीटा। नोटिस के बाद भी प्रताडऩा और सुख सुविधाएं सरकार नहीं दे रही उसके लिए लड़े तो नजर बंद किया जा रहा है। पुलिस अधिकारियों की बेरुखी परिवारों पर टूट रही है। जिस पति ने कभी हाथ नही लगया, वह मानसिक रुप से इतना प्रताडि़त हो चुका है कि पत्नी को बुरी तरह से पीटा। इसे देख अधिकारी बोले की इसे गिरफ्तारी करो। इसके बाद मामला ने तूल पकड़ गया।

एसपी पर भड़की महिला, बोली मैं बस्तर चो पिला
तबादले पर गए पतियों के बाद पुलिस लाइन कारली में महिलाओं में और आक्रोश भर गया है। एक जवान की पत्नी ने कहा कि 200 लोगों ने आंदोलन किया और आठ लोगों का ही तबादला क्यों किया। एसपी ने कहा उन लोगों को चिन्हत किया जा रहा है आंदोलन में बढ-चढ कर हिस्सा ले रही थी। वे सभी नजर में है और उनकी फोटो ग्राफी और वीडियो ग्राफी की गई है। यहा बैठी महिलाओं में से पहचान भी रहा हूं। एक महिला से बोले अब क्यों छिप रही हो। इस पर महिला एसपी पर भड़क उठीं।

यहां से उपजा है विवाद
दो दिन पहले उन 11 पुलिसकर्मियों को नोटिस दिया गया। इनमें से 8 लोगो का अंदरूनी क्षेत्रों में तबादला कर दिया गया। विधायक देवती कर्मा करीब 150 लोगों को कलेक्टरेट में जाकर प्रदर्शन करने की बात कर रहीं थी। जानकारी मिलने पर एसडीएम, एडिशनल कलेक्टर सहित अन्य अफसर मौके पर पहुंचे और साथ में 150 लोगों की जगह 2 लोगों को ले जाने को कहा। इस पर विधायक देवती कर्मा ने मना कर दिया। पीडि़त सभी जवानों के परिवार है। उनके साथ पीडि़त परिवार सभी जाएंगें।

सिंह देव से बोली देवती, असुरक्षित हूं बाबा
अधिकारियों और विधायक देवती कर्मा की बहस जारी थी। इस दौरान नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंह देव ने विधायक देवती कर्मा को फोन किया। सिंह देव ने जब कुशलता की बात पूंछी तो उन्होंने कहा बाबा असुरक्षित हूं। जवानों के परिवारों को नजर बंद किया जा रहा है। उनसे विधायक को नहीं मिलने दिया ज रहा है। अधिकारी अपमान जनक शब्दों का इस्तेमाल कर रहे हैं।

मैं विधायक हूँ, एसपी से बड़ी
पुलिस अधिकारी जब सर्किट हाउस लेकर विधायक देवती कर्मा को लेकर पहुंचे और वहां एसपी नही पहुंचे, इस पर एक फिर विधायक भड़क उठी। उन्होंने कहा अधिकारियों का इंतजार विधायक को करना पड़ेगा। यह जनता मेरी है, उनकी नहीं। मैं उनकी विधायक हूं। एसपी से बड़ी हूं। उन्होंने कहा अब एक मिनट यहां नही रुक सकती। एसपी बंगले पर आएं।

पुलिस अधीक्षक कमलोचन कश्यप ने बताया कि, पुलिस कैंपस कारली में जाकर महिलाओं को भड़काया जा रहा था। लाइन ऑर्डर को कंट्रोल में रखने के लिए विधायक देवती कर्मा व महिला मोर्चो की जिला अध्यक्ष को गिरफ्तार किया गया था। एसडीएम कोर्ट से उनको रिहाई मिली है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned