बिहार में जारी हैं कोरोना योद्धाओं पर हमले, DGP की चेतावनी बेअसर!

Bihar News: औरंगाबाद और मोतिहारी हमलों के बाद (Bihar Police) डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने कड़ी कार्रवाई कर जेल में सड़ा देने की लोगों को चेतावनी देते हुए कहा था नहीं मानेंगे तो जेल में सड़ा देंगे...

By: Prateek

Published: 18 Apr 2020, 09:04 PM IST

(दरभंगा, प्रियरंजन भारती): कोरोना के खिलाफ अभियान में जी जान से जुटे सरकारी दस्तों पर चेतावनी के बाद सामूहिक हमले किए जा रहे हैं। दरभंगा और नालंदा में घरों के सर्वे करने गई स्वास्थ्यकर्मियों पर फिर हमले हुए। इस मामले में दोनों जगहों से गिरफ्तारियां की गई हैं। बिहार सरकार ने घरों के सर्वे कराने के लिए सभी जिलों में आंगनबाड़ी और आशा कार्यकर्ताओं को जिम्मेदारी सौंपी है। दरभंगा के चंदनपट्टी और भालपट्टी मोहल्लों में सर्वे करने गई आशा कार्यकर्ताओं पर स्थानीय लोगों ने हमले कर दिए। इनके साथ बदसलूकी की गई। रजिस्टर और कपड़े फाड़ दिए गए। बाहर से आए लोगों के बारे में सर्वे कर जानकारी जुटाई जा रही थी। बमुश्किल भागकर आशा कार्यकर्ताओं ने जान बचाई। पुलिस को सूचना देने के बाद कार्रवाई की गई। एसडीपीओ अनोज कुमार ने बताया कि एक व्यक्ति को इस मामले में हिरासत में लिया गया है।

 

सीएम के गृह जिले नालंदा में भी हमले, जदयू नेता गिरफ्तार

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार खुद कोरोना संकट से सूबे को उबारने में निरंतर जुटे हैं पर उनके ही गृह जिले नालंदा में उनकी पार्टी जदयू के नेता सर्वे करने गई आंगनबाड़ी सेविका पर हमले से बाज नहीं आए। सिलाव नगर पंचायत में घर घर सर्वे करने गई आंगनबाड़ी सेविका रेणु कुमारी को जदयू मंडल अध्यक्ष सत्येंद्र चौधरी ने खदेड़ भगाया और बदसलूकी की। रेणु कुमारी पास के घर में छिप गई। थाने को सूचना दी गई। बाद में पुलिस ने सत्येंद्र चौधरी को गिरफ्तार कर लिया।

 

लगातार हो रहे हमले

सर्वे के अलावा कोरोना जांच के लिए जा रहे पुलिस और स्वास्थ्यकर्मियों समेत अधिकारियों पर लोगों की ओर से लगातार हमले किए जाने की घटनाएं हो रही हैं। इससे पूर्व समस्तीपुर, अररिया, भागलपुर, औरंगाबाद, मोतिहारी और अन्य कई शहरों में भी सरकारी दस्तों पर हमले किए जा चुके हैं। पुलिस दल को भी कई ठिकानों से भागकर जान बचानी पड़ी गई है।पिछले दिनों औरंगाबाद के गोह और मोतिहारी में हुए हमलों में पुलिसकर्मी और बीडीओ घायल हो चुके हैं।

 

डीजीपी की चेतावनी के बावजूद नहीं रुक रहा प्रतिरोध

औरंगाबाद और मोतिहारी हमलों के बाद डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने कड़ी कार्रवाई कर जेल में सड़ा देने की लोगों को चेतावनी देते हुए कहा था नहीं मानेंगे तो जेल में सड़ा देंगे।यह भी कहा था कि स्पीडी ट्रायल कर जल्दी फैसले दिलवाएंगे और कड़ी सजा दिलवाएंगे। औरंगाबाद में 25लोगों को एफआईआर दर्ज़ कर गिरफ्तारी भी हुई।पर इन सबके बावजूद हमला करने वाले सरकारी कार्यों में बाधाएं डालने से मान नहीं रहे।

Show More
Prateek Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned