दरभंगा की बेटी का होगा सम्मान, लॉकडाउन में अनोखे तरीके से की पिता की सेवा

Bihar News: डीएम ने बताया कि क्वारंटाइन अवधि पूरी हो जाने के बाद उसे सम्मानित किया (Darbhanga News) जाएगा (Brave Daughter Story During Lockdown)...

By: Prateek

Published: 21 May 2020, 10:16 PM IST

दरभंगा: कोरोना संकट में केवल मां बाप ही नहीं बेटे बेटियां भी अपने माता—पिता को श्रवण कुमार बनकर हजारों मील से ज़िल्लतें सहकर घर लाने की मिसाल पेश कर रही हैं। ऐसी ही दरभंगा की 15 वर्षीया एक बेटी ज्योति ने साइकिल पर बीमार बाप को बिठाकर हजार किलोमीटर की कष्टकारक यात्रा पूरी करते हुए गांव लाकर कीर्तिमान खड़ा कर दिखाया। दरभंगा डीएम डॉ त्यागराजन इसे सम्मानित करने जा रहे हैं। इसे हर तरह की सरकारी योजना का लाभ दिया जाएगा। बाप बेटी की होम क्वारंटाइन अवधि पूरी होते ही प्रशासन इन्हें योजनाओं का लाभ दिलाने वाला है।

हर दिन डेढ़ सौ किमी साइकिल चलाई

आठवीं तक पढ़ी बेटी ज्योति बीमार पिता मोहन पासवान को पुरानी साइकिल के कैरियर पर बिठा हर दिन 150 किमी सफर तय कर जब सदर प्रखंड के सिरुहुलिया गांव स्थित घर पहुंची तो गांव और आसपास के लोग बड़ी संख्या में पहुंचकर उसकी तारीफ करने लगे। सफर में उसे दो दिनों तक भूखे रहना पड़ा लेकिन उसने हिम्मत नहीं हारी। ज्योति के साहसिक कार्यों की सूचना पाकर डीएम डॉ त्यागराजन और सदर प्रखंड के एसडीओ राकेश गुप्ता सिरुहुलिया गांव स्थित उसके घर पहुंचे और उसकी हौसला अफजाई की।

मिलेगी सुविधाएं

डीएम ने बताया कि क्वारंटाइन अवधि पूरी हो जाने के बाद उसे सम्मानित किया जाएगा। एसडीओ राकेश गुप्ता ने ज्योति को सरकारी योजनाओं की जानकारी दी। परिवार को हर योजना का लाभ दिलाया जाएगा।ज्योति ने आगे पढ़ने की इच्छा ज़ाहिर की है। उसे पढ़ाई जारी रखने के लिए सरकार की ओर से संसाधन उपलब्ध कराए जाएंगे।

Prateek Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned