कर्मचारियों ने काम बंद कर सीएमओ को सौंपी कार्यालय की चाबियां

कर्मचारियों की नियुक्त को लेकर नगर परिषद फिर विवादों के घेरे में

सेंवढ़ा. जब से नगर परिषद का कार्यकाल खत्म हुआ है तभी से विवादों के घेरे में है। पहले सफाई कर्मचारियों की नियुक्ति को लेकर और अब कम्प्यूटर ऑपरेटर समेत एक दर्जन कर्मचारियों को लेकर विवाद है। नगर परिषद सीएमओ के एक फरमान से सभी कर्मचारियों ने काम बंद कर कार्यालय की चाबियां सीएमओ को सौंपी हैं और आक्रोशित कर्मचारियों ने एसडीएम राकेश परमार को ज्ञापन सौंपा है।


सौंपे गए ज्ञापन में उल्लेख किया गया है कि 2015 में नगर परिषद में कलेक्टर रेट पर कंप्यूटर ऑपरेटर समेत एक दर्जन से अधिक कर्मचारियों को नियमों का अनुकरण करते हुए परिषद की बैठक में ठहराव प्रस्ताव डालकर नियुक्त किया गया था, लेकिन सीएमओ योगेन्द्र सिंह तोमर की कार्यप्रणाली अजीब है, जिससे नगर परिषद के कर्मचारी अपने आपको ठगा सा महसूस कर रहे हैं। सोमवार को सीएमओ योगेन्द्र सिंह तोमर ने मौखिक रूप से फरमान जारी किया कि जो ठेका पद्धति पर कार्य करने के इच्छुक हों वह कार्य करें वरना अपने घर बैठें। तब इस संबंध में कर्मचारियों ने आदेश और हटाने का कारण पूछा तो वह दिखाने में असमर्थ नजर आए। इसके अलावा सीएमओ तोमर ने मौखिक रूप से यह भी बताया कि मप्र नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग द्वारा मस्टर प्रथा खत्म कर दी गई है। कलेक्ट्रेट में लगे कर्मचारियों को अप्रैल का वेतन ठेकेदार द्वारा दिया जाएगा जो कर्मचारी इस आदेश से सहमत नहीं हैं वे अपनी सेवाएं छोड़कर अपने घर जा सकते हैं, जबकि नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग के पत्र 14 फरवरी 2020 के अनुसार 16 मई 2007 के पश्चात नियुक्त किए गए दैनिक वेतन भोगी कर्मचारी जो 1 सितंबर 2016 को भी कार्य पर थे, उनके बीच विनियमितीकरण कार्यवाही प्रस्तावित की जानी थी पर निकाय द्वारा अभी तक कोई कार्यवाही प्रस्तावित नहीं की गई, बल्कि हमारे मस्टर प्रथा पर रोक लगा दी और अप्रैल से ठेकेदार द्वारा भुगतान किया जाएगा, जबकि कलेक्ट्रेट के कर्मचारियों के लिए कोई भी ठेका नगर परिषद सेंवढ़ा द्वारा नहीं लिया गया और न ही किसी प्रकार की प्रशासकीय स्वीकृति ली गई। नगर परिषद द्वारा पूर्व में विज्ञप्ति केवल सफाई कर्मचारी रखने के लिए जारी की गई थी। कर्मचारियों ने एसडीएम से मांग की है कि निष्पक्ष जांच कर कार्यवाही की जाए। ज्ञापन सौंपने वालों में वीरेन्द्र पाटकार, रवि यादव, अमन गुप्ता, आमिर खान, प्रशांत श्रीवास्तव, जयप्रकाश प्रजापति समेत कर्मचारी शामिल रहे।

Show More
महेंद्र राजोरे Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned