कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच मेले की धूम

मेले में न तो सोशल डिस्टेसिंग, न ही लोग लगा रहे मास्क, नहीं हो रहा धारा 144 के प्रावधानों का पालन

दतिया. जिले में कोरोना के मरीज बढऩे लगे हैं। पिछले हफ्ते करीब सात मरीज सामने आ चुके हैं। संक्रमण के खतरे को देखते हुए कलेक्टर ने जिले में धारा 144 लागू कर दी है। फिर भी शहर के बीच दतिया महोत्सव के तहत मेले की धूम है। न तो मेले में सामाजिक दूरी बनाई जा सकती है न ही यहां मास्क लगाने पर किसी को बाध्य किया जा सकता है। यहां से संक्रमण का खतरा ज्यादा फैलने की आशंका है।


दतिया महोत्सव के तहत इन दिनों सीतासागर में मेले की धूम चल रही है। छोटे-बड़े झूले तो चल ही रहे हैं। खाने, कपड़े, खिलौने समेत अन्य तरह की दुकानें भी सजी हुई हैं। शाम होते ही यहां रौनक आ जाती है। इधर कलेक्टर के निर्देश पर शहर में बिना मास्क वालों पर कार्रवाई करने के लिए टीमों का गठन भी किया जा चुका है। मंगलवार की शाम से ही अपर कलेक्टर समेत अन्य अधिकारी सड़कों पर आए। उन्होंने बिना मास्क वालों को न केवल मास्क लगाने की सीख दे डाली, बल्कि चार पहिया, दो पहिया व पैदल चलने वाले 20 लोगों पर जुर्माना भी ठोक दिया है। एक ओर जहां प्रशासन कोरोना संक्रमण फैलने से रोकने के लिए ये सारे जतन कर रहा है तो दूसरी ओर इन दिनों सीतासागर पर भव्य मेला का आयोजन भी किया जा रहा है। यहां आधा सैकड़ा से ज्यादा छोटे-बड़े झूले तो है ही चाट-पकोड़ी, कपड़े, जुते-चप्पल, खिलौनों की दुकानें हैं। यहां न तो धारा 144 का असर दिख रहा है और न ही उस कोरोना गाइडलाइन का जिसके तहत दो लोगों के बीच में दो गज की दूरी जरूरी है।


नहीं बनाए गोले न ही लगाईं रस्सियां

तीन दिन पहले कलेक्टर संजय कुमार ने जिले में आइपीसी की धारा 144 लागू कर दी है। इसमें प्रावधान किया गया है कि कोई भी बिना मास्क के नहीं निक लेगा। दुकानों के आगे रस्सियां लगाईं जाएंगी, ताकि दुकानदार व ग्राहकों के बीच पर्याप्त दूरी बनी रहे। यही नहीं यह भी प्रावधान किया गया है कि दुकानों के आगे गोले बनाए जाएं ताकि लोग उन गोलों में खड़े होकर खरीदारी करें। यानी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो सके पर देखा जा रहा है कि बस स्टैंड के पास लगे मेले में इन सारे प्रावधानों को ताक पर रखा जा रहा है।


मेले की तरफ अधिकारियों का रुख भी नहीं

मंगलवार से कलेक्टर के निर्देश पर अधिकारी उन लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए बाजार में उतरने लगे हैं जो बिना मास्क के सड़क पर निकल रहे हैं। मंगलवार की शाम चार बजे से निकले अधिकारियों ने 20 लोगों पर सौ-सौ रुपए का जुर्माना भी ठोका है पर सवाल यह है कि क्या मेले में आने वालों से संक्रमण का खतरा नहीं है। यदि हां तो अधिकारी इस ओर रुख क्यों नहीं कर रहे हैं। देखा जा सकता है कि शाम होते ही मेले में हजारों सैलानियों का आना शुरू हो जाता है, जो देर रात तक चलता है।


कोरोना संक्रमण को बढऩे से रोकने के लिए अभी बाजार पर नजर है। अधिकारी बिमा मास्क वालों पर कार्रवाई कर रहे हैं। मेले में जाकर भी हालात देखे जाएंगे।
एके चांदिल, अपर कलेक्टर

महेंद्र राजोरे Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned