लॉकडाउन में 1583 मजदूरों की जीविका बनी मनरेगा

जिले की 149 पंचायतों में शुरू हुए गरीबों के लिए रोजगार

MNREGA made livelihood of 1583 laborers in lockdown, news in hindi, mp news, datia news

By: संजय तोमर

Published: 23 Apr 2020, 05:39 PM IST

दतिया. लॉक डाउन में अपना काम धंधा गंवा चुके ग्रामीण क्षेत्र के मजदूरों के लिए मनरेगा(महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना)उम्मीद की नईकिरण बनी है। प्रशासन द्वारा जिले में मनरेगा के तहत जल संरक्षण एवं जल संवद्र्धना के साथ प्रधानमंत्री आवास योजना के काम शुरू करा दिए गए हैं। प्रधानमंत्री आवास योजना में मजदूर व्यक्तिगत काम कर रहे हैं।

लॉक डाउन के बाद जिले में लोगों के आने का सिलसिला बराबर जारी है। लॉक डाउन की बजह से कई लोग अपना काम धंधा बंद करके शहर में आए हैं। जिले में सबसे ज्यादा ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों की बापसी हुईहै। अधिकांश मजदूर प्रदेश सहित देश के अन्य शहरों में रह कर अपनी आजीविका चलाते थे। मजदूरों की बापसी के बाद उनके समक्ष रोजगार का संकट खड़ा हो गया है। उधर सरकार ने भी लॉक डाउन में छूट देते ग्रामीण क्षेत्रों में मनरेगा के काम शुरू करने की छूट दे दी है। सरकार द्वारा लॉक डाउन में छूट दिए जाने के बाद प्रशासन द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में मनरेगा के तहत काम शुरू करा दिए गए हैं।

8484 लोग लौटे दूसरे शहरों से
उल्लेखनीय है कि लॉक डाउन के बाद जिले में प्रदेश से बाहर एवं प्रदेश के अन्य जिलों से 8484 लोगों ने बापसी की है। उक्त सभी लोगों को स्वास्थ्य विभाग ने होम क्वारेंटाइन किया है। जिले में बापसी करने वाले अधिकांश लोग ग्रामीण क्षेत्रों में निवास करने वाले हैं, जो बाहर मजदूरी कर अपनी आजीविका चलाते थे।

इन्हें मिला रोजगार
मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत भगवान सिंह जाटव ने बताया कि जिले की 290 ग्राम पंचायतों में से 149 पंचायतों में काम शुरू हो गए हैं। इन पंचायतों में 1587 लोगों को रोजगार उपलब्ध कराया गया है। प्रशासन ने प्रधानमंत्री आवास योजना में व्यक्तिगत काम शुरू कराकर 780 मजदूरों को रोजगार उपलब्ध हुआ है। इसके जल संवद्र्धन एवं जल संरक्षण के काम पंचायतों में शुरू कराए गए हैं।

सबसे ज्यादा काम दतिया में
प्रशासन द्वारा सबसे ज्यादा काम दतिया विकासखंड की ग्राम पंचायतों में शुरू कराए गए हैं। दतिया में 75, सेंवढ़ा में 35 और भांडेर में 39 काम शुरू हुए हैं। हालांकि 141 पंचायतें ऐसी हैं जिनमें कोई काम शुरू नहीं हुआ है।

संजय तोमर Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned