नवरात्रि विशेष : भक्तों पर आए संकट को हर लेती हैं तारा माई, कठिन है साधना

पंचम कवि की टोरिया पर स्थित मंदिर है आस्था का केंद्र

By: हुसैन अली

Published: 13 Oct 2021, 10:45 PM IST

दतिया. मां बगुलामुखी और धूमावती के अलावा दस महाविद्याओं में से एक तारा माई भी दतिया में विराजमान हैं। प्राकृतिक और मनोरम वातावरण के बीच पंचम कवि की टोरिया पर विराजमान तारा माई का मंदिर भक्तों की आस्था का केंद्र है। मान्यता है कि तारा माई जीवनदायिनी हैं। वह अपने भक्तों के जीवन पर आए संकट को दूर करती हैं।

दतिया में बिराजमान तारा माई की स्थापना पीतांबरा माई की स्थापना से पहले की बताई जाती है। इतिहासकार रवि ठाकुर के अनुसार तारा माई की स्थापना सन 1932 में पीतांबरा पीठ के पीठाधीश्वर स्वामी जी महाराज ने कराई थी। पीतांबरा पीठाधीश्वर स्वामी जी महाराज ने पीतांबरा पीठ को अपनी साधना स्थली बनाने से पहले कुछ समय पंचम कवि की टोरिया पर व्यतीत किया था और वहां उन्होने साधना की थी। कहा जाता है कि जिनके जीवन पर संकट हो उन्हें तारा माई की आराधना करनी चाहिए। तारा माई राज्य शक्ति भी प्राप्त कराती हैं।

कठिन है माई की साधना

तारा माई की साधना को काफी कठिन माना जाता है इसलिए तारा माई के साधक कम ही मिलते हैं। कहा जाता है कि जिनकी मदद कोई न कर रहा हो उनकी मदद तारा माई करती हैं। साधना से जुड़े लोग यह भी बताते हैं कि तारा माई की साधना करने वाले व्यक्ति को इच्छा मृत्यु की पात्रता मिल जाती है।

हुसैन अली
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned