कीटनाशक दवा के सेवन से मृत मोरों की संख्या हुई आठ, तीन घायल

सम्मान के साथ हुआ राष्ट्रीय पक्षियों का दाह संस्कार
युवक घायक व आधा दर्जन अन्य पक्षियों की भी हुई मौत

इंदरगढ़. कुठोंदा गांव में एक किसान के खेत में लगी मटर की फसल एवं जमीन पर पड़ी कीटनाशक दवा का सेवन करने से अब तक आठ राष्ट्रीय पक्षी मोरों की मौत हो चुकी है और तीन घायल हैं, वहीं आधा दर्जन पक्षियों की भी मौत हो गई है तथा मटर के दाने को खाने से एक युवक भी बीमार हो गया है। मंगलवार को मृत राष्ट्रीय पक्षियों का राष्ट्रीय सम्मान के साथ वनमंडलाधिकारी प्रियांशी राठौर की उपस्थिति में दाह संस्कार किया गया। इस मौके पर वन परिक्षेत्र अधिकारी चन्द्रशेखर श्रोती उपस्थित रहे।


नगर के कामद रोड पर स्थित ग्राम कुठोंदा के हार में 22 फरवरी की शाम ग्रामीणों को खेत में तीन मोरे मृत एवं एक घायल अवस्था में मिली थी। जिसकी सूचना वन विभाग को दी गई थी। वन कर्मचारियों ने गांव में पहुंचकर मृत एवं घायल मोर को अपने कब्जे में लेते हुए वन विभाग के कार्यालय ले आए थे। मंगलवार की सुबह जब फिर ग्रामीण अपने खेतों पर पहुंचे तो वहां पर चार मोर और मृत पाए गए। एक मोर को जानवर खा चुके थे और तीन मोर घायल अवस्था में मिले। इसकी सूचना पर वन मंडलाधिकारी प्रियांशी राठौर, तहसीलदार सुनील भदौरिया, थाना प्रभारी वायएस तोमर, वन परिक्षेत्र अधिकारी चन्द्रशेखर श्रोती एवं वन अमला मौके पर पहुंचा और आसपास खेतों में खड़ी फसल में पक्षियों की खोजबीन की तो दो अन्य घायल और भी दिखे मगर वह ग्रामीणों की पकड़ में नहीं आ सके। घटना स्थल पर उपस्थित वन मंडलाधिकारी ने इस घटना की जांच कर दोषी लोगों के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश दिए हैं।


आधा दर्जन अन्य पक्षी भी मरे

कीटनाशक दवा खाने से आठ मोरों की मौत हो गई एवं तीन घायल हैं। यह दवा खाने से करीब आधा दर्जन अन्य प्रजाति के पक्षियों घोंघा, कबूतर, गलगलियां समेत अन्य पक्षियों की भी मौत हो गई और कुछ घायल हैं।
इनके खेतों पर मिले मृत पक्षी
ग्राम कुठोंदा में कीटनाशक दवा का सेवन करने के बाद मृत एवं घायल मोर ग्राम कुठोंदा के किसान मुन्ना तिवारी, भूपेन्द्र, पुष्पेन्द्र एवं मानसिंह कुशवाहा के खेतों में पड़े मिले। वन परिक्षेत्र अधिकारी ने एक पंचनामा तैयार किया, जिसमें खेत मालिकों ने बताया कि कीटनाशक दवा परशुराम, नीरज एवं दिलीप ने डाली थी, जिससे मोरों की मौत हुई है।


सम्मान के साथ हुआ दाह संस्कार

ग्राम कुठोंदा में कीटनाशक दवा का सेवन करने के पश्चात मृत मोरों का पीएम कराया गया। इसके पश्चात वन परिक्षेत्र कार्यालय इंदरगढ़ में राष्ट्रीय पक्षी मोरों का राष्ट्रीय सम्मान के साथ वन मंडलाधिकारी द्वारा दाह संस्कार कराया गया।

मटर खाने से युवक की हालत बिगड़ी


ग्राम कुठोंदा के हार में कीटनाशक दवा खाने के बाद मृत मोरों को उठाने के बाद गांव के भूपेन्द्र बुंदेला ने मटर के दाने का सेवन किया तो उसके हाथों में लगी जहरीली दवा के प्रभाव से उसकी हालत भी बिगड़ गई और उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया।


जांच के लिए सैंपल लिए

किसानों के खेत में मोरों एवं अन्य पक्षियों की मौत हुई है। जांच के लिए खेतों में खड़ी फसलों के सैंपल लेकर जांच के लिए भेजे जा रहे हैं। जांच रिपोर्ट आने के बाद पता चल सकेगा कि मौत कैसे हुई है, इसका पता चलते ही संबंधित के विरुद्ध वन्य प्राणी संरक्षण अधिनियम के तहत कार्रवाई की जाएगी।
प्रियांशी राठौर, वनमंडलाधिकारी

Show More
महेंद्र राजोरे Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned