scriptNurse ate sleeping pills, accused of torture when she regained conscio | नर्स ने खाई नींद की गोलियां, होश आने पर लगाए प्रताडऩा के आरोप | Patrika News

नर्स ने खाई नींद की गोलियां, होश आने पर लगाए प्रताडऩा के आरोप

अस्पताल प्रबंधन जांच के नाम पर मामले को दबाने के प्रयास में जुटा

 

 

दतिया

Published: March 28, 2022 11:14:20 pm

दतिया. जिला अस्पताल में एक स्टाफ नर्स को प्रताडि़त करने का मामला सामने आ रहा है। जिसके चलते जिला अस्पताल में पदस्थ रीना घोष नामक नर्स ने 26 मार्च को नींद की गोलियां खाकर आत्महत्या करने का प्रयास किया। नर्स ने होश आने पर मेडिकल कॉलेज के तीन अधिकारियों पर प्रताडि़त करने का आरोप लगाया है।
नर्स ने खाई नींद की गोलियां, होश आने पर लगाए प्रताडऩा के आरोप
नर्स ने खाई नींद की गोलियां, होश आने पर लगाए प्रताडऩा के आरोप
जिला चिकित्सालय में रीना घोष स्टाफ नर्स के रूप में पदस्थ हैं। नर्स ने मेडिकल कॉलेज के प्रबंधन पर मानसिक रूप से प्रतडि़त करने का आरोप लगाते हुए 80 नींद की गोलियां खा लीं। जैसे ही मेडिकल कॉलेज प्रबंधन को ये पता चला तो मेडिकल कॉलेज प्रबंधन के हाथ पैर फूल गए। मेडिकल कॉलेज प्रबंधन ने पीडि़ता को नए भवन की पहली मंजिल पर बने कोरोना वार्ड में भर्ती करवा दिया। ताकि मामला दबा रहे। मेडिकल कॉलेज प्रबंधन ने दो दिन तक मामले को दबाने और लीपापोती करने का प्रयास भी किया लेकिन सोमवार को जैसे ही नर्स को होश आया तो मामला मीडिया तक पहुंच गया। पीडि़ता ने मीडिया कर्मियों से बात करते हुए मेडिकल कॉलेज के सह अधीक्षक अर्जुन सिंह सहित तीन लोगों पर परेशान करने के आरोप लगाए हैं। पीडि़त नर्स का कहना है कि मुझे न तो कोई डॉक्टर देखने आया और न ही अस्पताल में भर्ती का रिकॉर्ड है ताकि किसी को कुछ पता न चले सके।
मामले को दबाने में जुटा प्रबंधन

सोमवार को स्टाफ नर्स द्वारा आत्महत्या के प्रयास का मामला सामने आने े बाद मनोरोग विशेषज्ञ डॉ कपिल देव आर्य ने पीडि़त नर्स की जांच की। डॉ आर्य का कहना है कि मरीज में डिप्रेशन के लक्षण मिले हैं। मरीज पहले भी आत्महत्या का प्रयास कर चुकी है और इलाज नहीं कराया तो आगे भी प्रयास कर सकती है। वहीं मेडीकल कॉलेज के अधीक्षक डॉ अर्जुन सिंह का कहना है कि आज ही हमें रीना घोष के बारे में पता चला है। उसके आरोपों की जांच करवाई जाएगी। सह अधीक्षक डॉ हेमंत जैन ने बताया कि मरीज के परिजनों से बात कर ली गई और आश्वासन दिया गया है कि नर्सिंग स्टाफ रीना घोष की सुनवाई की जाएगी और उचित मदद उसके इलाज और उसकी ड्यूटी के संबंध में की जाएगी।
इन डॉक्टरों पर आरोप

आत्महत्या का प्रयास करने वाली स्टाफ नर्स रीना घोष ने नर्सिंग सुपरिटेंडेंट डॉ विजी अवस्थी, मेडिकल कॉलेज अधीक्षक डॉ अर्जुन सिंह एवं फीवर क्लीनिक के इंचार्ज डॉ सुभांशु गुप्ता पर मानसिक प्रताडि़त करने के आरोप लगाए है।
छह माह से चल रहा विवाद

स्टाफ नर्स रीना घोष फीवर क्लीनिक में पिछले 6 माह से कार्य कर रही थी। संक्रमण खत्म होने के बाद मरीज आना बंद हो गए तो आवश्यकता नही होने पर उसे मैटरनिटी वार्ड में पदस्थ कर दिया गया। ड्यूटी बदलने से उसका सीनियरों से विवाद बढ़ा। उसे 6 महीने से परेशान किया जा रहा है।
भर्ती पर्चा नहीं बनाया

नर्स रीना घोष का यह भी आरोप है कि उसे कोविड वार्ड में भर्ती किया गया है। इसके अलावा उसका भर्ती का पर्चा भी बनाया गया है। नर्स ने कहा कि वह देखना चाहती है कि आखिर उसका क्या इलाज किया जा रहा है और उसे कौन सी दवाइयां दी जा रही हैं। लेकिन उसकी कोई सुनवाई नहीं हो रही है। वह मानसिक रूप से काफी परेशान है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

सीएम Yogi का बड़ा ऐलान, हर परिवार के एक सदस्य को मिलेगी सरकारी नौकरीचंडीमंदिर वेस्टर्न कमांड लाए गए श्योक नदी हादसे में बचे 19 सैनिकआय से अधिक संपत्ति मामले में हरियाणा के पूर्व CM ओमप्रकाश चौटाला को 4 साल की जेल, 50 लाख रुपए जुर्माना31 मई को सत्ता के 8 साल पूरा होने पर पीएम मोदी शिमला में करेंगे रोड शो, किसानों को करेंगे संबोधितराहुल गांधी ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा - 'नेहरू ने लोकतंत्र की जड़ों को किया मजबूत, 8 वर्षों में भाजपा ने किया कमजोर'Renault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चIPL 2022, RR vs RCB Qualifier 2: राजस्थान ने बैंगलोर को 7 विकेट से हराया, दूसरी बार IPL फाइनल में बनाई जगहपूर्व विधायक पीसी जार्ज को बड़ी राहत, हेट स्पीच के मामले में केरल हाईकोर्ट ने इस शर्त पर दी जमानत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.