एम्बुलेंस पर चिपकाई रेट लिस्ट, सीएमएचओ ने लिखा पत्र

पत्रिका लगातार

दतिया. एम्बुलेंस संचालक मरीजों और उनके अटेंडरों से मनमाने पैसे वसूल न कर सकें इसके लिए प्रशासन ने प्रयास शुरू कर दिए हैं। इस संबंध में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने जिला परिवहन अधिकारी को कार्रवाई के लिए पत्र लिखा है तो टीआइ कोतवाली धनेंद्र सिंह भदौरिया ने गुरुवार को जिला चिकित्सालय में खड़ी एम्बुलेंस पर शासन द्वारा निर्धारित रेट लिस्ट चस्पा करवाई। साथ ही चेतावनी दी कि ज्यादा पैसे वसूले तो वैधानिक कार्रवाई होगी। उल्लेखनीय है कि एम्बुलेंस के लिए जिला व प्रदेश में कोई रेट तय न होने की वजह से एम्बुलेंस चालक इन दिनों लोगों से मनमाने पैसे वसूल कर रहे थे। स्थिति यह है कि एम्बुलेंस चालक शहर में ही आवश्यकता पडऩे पर दो-दो हजार रुपए चार्ज ले रहे थे। लोगों को हो रही परेशानी के संबंध में पत्रिका ने 04 मई के अंक में झांसी का किराया 4500 तो भोपाल का 35 हजार शीर्षक से खबर का प्रकाशन कर शासन-प्रशासन का ध्यान इस ओर आकर्षित कराया था।

सीएमएचओ ने लिखा पत्र

पत्रिका द्वारा प्रकाशित की गई खबर का हवाला देते हुए मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. आरबी कुरेले ने जिला परिवहन अधिकारी को पत्र लिखा है। पत्र में सीएमएचओ डॉ. कुरेले ने लिखा है कि कुछ प्रायवेट एम्बुलेंस वाहनों द्वारा मनमाने दर पर एम्बुलेंस का किराया वसूल किया जा रहा है। अत: उक्त प्रायवेट वाहन के रजिस्ट्रेशन चैक कर शासन द्वारा तय किराया निर्धारित करने का कष्ट करें, जिससे इस महामारी के समय आम जनता को परेशानियों का सामना न करना पड़े।

टीआइ ने समझाया, रेट लिस्ट लगवाई

जिला अस्पताल में एम्बुलेंस चालकों द्वारा मरीजों से लगातार मनमानी पैसे लिए जाने पर रोक लगाए जाने के लिए कोतवाली टीआइ धनेन्द्र सिंह भदौरिया ने गुरुवार को अस्पताल परिसर पहुंचकर और एम्बुलेंस चालकों को फटकार लगाई। उन्होंने एम्बुलेंस चालकों को समझाइश दी कि शासन द्वारा निर्धारित रेट से ज्यादा अगर एम्बुलेंस वालों ने मरीजों से पैसे वसूले तो उन पर वैधानिक कार्रवाई की जाएगी। इस दौरान टीआइ के निर्देशन में पुलिसकर्मियों द्वारा एम्बुलेंस परिसर में खड़ी एम्बुलेंस पर शासन द्वारा निर्धारित रेट लिस्ट चस्पा की गई।

Show More
महेंद्र राजोरे Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned