जेल में बंदियों को गांजा बेचता था मुख्य जेल प्रहरी

जेल अधीक्षक द्वारा मुख्य जेल प्रहरी को तत्काल प्रभाव से निलंबित किया गया

By: monu sahu

Published: 10 Nov 2017, 11:21 PM IST

दतिया. सर्किल जेल में तैनात मुख्य जेल प्रहरी फूल सिंह को शुक्रवार की अलसुबह रुटीन चेकिंग के दौरान सर्किल जेल के स्टाफ ने गांजे की पुडिय़ा सहित पकड़ लिया। मुख्य जेल प्रहरी को कार्रवाई के लिए कोतवाली थाना पुलिस के सुपर्द कर दिया गया। वहीं जेल अधीक्षक द्वारा मुख्य जेल प्रहरी को तत्काल प्रभाव से निलंबित किया गया। कोतवाली थाना पुलिस ने उसके विरुद्ध एनडीपीएस एक्ट के तहत प्रकरण पंजीबद्ध कर लिया है। पुलिस मुख्य प्रहरी से पूछताछ कर रही है।

अतिरिक्त जेल अधीक्षक ममता गौतम ने बताया कि जेल अधीक्षक बीके कुड़ापे को निरंतर शिकायत मिल रही थी कि स्टाफ में से कोई एक कर्मचारी जेल में बंदियों को गांजा बेचा करता है। शुक्रवार को जब मुख्य प्रहरी फूलसिंह (58) पुत्र श्रीराम कोरकू निवासी भीम नगर मुरार ग्वालियर जब अपनी अलसुबह 4 से 8 बजे की ड्यूटी करने के लिए पहुंचा तो गेट कीपर उपेन्द्र सिंह द्वारा तलाशी देने को कहा तो मुख्य प्रहरी मना करने लगा। तभी उपेन्द्र ने धीर सिंह नरवरिया, यूनिस खान एवं गोविंद शर्मा मुख्य प्रहरी को गेट पर बुला लिया। तभी सभी ने जब फूलसिंह की तलाशी ली तो उसके जूतों में गांजे की पांच पुडिय़ा रखी पाई गई।

जेल अधीक्षक के निर्देश पर मुख्य जेल प्रहरी को कोतवाली पुलिस के सुपुर्द कर दिया गया। पुलिस ने फूलसिंह को गिरफ्तार कर गांजे को जब्त करते हुए उसके विरुद्ध एनडीपीएस के तहत कार्रवाई की है। कोतवाली थाना टीआई ने अजय भार्गव बताया कि मुख्य प्रहरी से जब पूछताछ की गई तो उसने बताया कि वह पैसों की लालच में बंदियों को गांजा बेचा करता था। फिलहाल पुलिस ने प्रकरण पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया है। पुलिस ने जब्त किए गए
गांजे का कुल वजन 40 ग्राम के लगभग बताया है।

जेल अधीक्षक को निरंतर शिकायत मिल रही थी। मुख्य प्रहरी की ड्यूटी पर जाने से पहले जब तलाशी ली गई तो उसके पास से गांजे की पुडिय़ा पाई गई। जिसे जेल अधीक्षक के निर्देश पर तत्काल प्रभाव से निलंबित किया गया है।

ममता गौतम, अतिरिक्त अधीक्षक सर्किल जेल

Show More
monu sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned