चुनावी रण में 11 प्रत्याशी नहीं बचा पाए थे जमानत

चुनावी रण में 11 प्रत्याशी नहीं बचा पाए थे जमानत

Gaurav Kumar Khandelwal | Publish: Apr, 22 2019 07:44:39 AM (IST) | Updated: Apr, 22 2019 07:44:40 AM (IST) Dausa, Dausa, Rajasthan, India

2014 में 7 प्रत्याशियों को नोटा से कम मिले थे वोट

दौसा. लोकसभा आम चुनाव 2014 में दौसा सीट पर 14 प्रत्याशियों ने भाग्य आजमाया था, लेकिन इनमें से मात्र तीन ही प्रत्याशी जमानत राशि बचा पाए थे। शेष 11 प्रत्याशी अपनी जमानत राशि भी नहीं बचा पाए थे। यहां तक की 7 प्रत्याशी तो नोटा को भी नहीं पछाड़ पाए। दौसा लोकसभा सीट पर 2014 में भारतीय जनता पार्टी से हरीश मीना तो कांग्रेस से उनके बड़े भाई नमोनारायण मीना चुनाव मैदान में थे। डॉ. किरोड़ीलाल मीना भी राजपा से मैदान में आए थे।

 

 

निर्दलीय शिवपाल गुर्जर भी जोर-शोर से उतरे तो मुकाबला चतुष्कोणीय हो गया। टक्कर भाजपा व राजपा में रही। जमानत बचाने वालों में जीतने वाले हरीश चन्द्र मीना, राजपा के डॉ. किरोड़ीलाल मीना व कांग्रेस के नमोनारायण मीना ही कामयाब हो पाए थे। शेष सभी 11 प्रत्याशी अपनी जमानत राशि ही नहीं बचा पाए।

 

 

 


इनको इतने मिले थे वोट


2014 के लोकसभा चुनाव में विजयी रहे हरीशचन्द्र मीना को 3 लाख 15 हजार 59 वोट मिले थे। दूसरे पायदान पर रहे डॉ. किरोड़ीलाल मीना को 2 लाख 69 हजार 655 वोट तो कांग्रेस के नमोनारायण मीना को 1 लाख 81 हजार 272 वोट मिले था। चौथे पायदान पर रहे शिवपाल गुर्जर को 82 हजार 549 वोट मिले थे, लेकिन वे कुल पड़े मतों का छठा हिस्सा नहीं ला पाए, ऐसे में उनकी जमानत जब्त हो गई थी।

 

निर्दलीय बिमलादेवी मीना को 20 हजार 37, निर्दलीय अंजू धानका को 16 हजार 935, बसपा के चंदूलाल मीना को 15 हजार 303, डॉ. नसीम गुर्जर को 5 हजार 792, भारतीय युवा शक्ति के खेमराज मीना को 4 हजार 297, आमआदमी पार्टी के डॉ. संजीतकुमार धानका को 3 हजार 202, निर्दलीय अंजली भडाना को 3072, समाजवादी पार्टी के सूरजमल धानका को 2 हजार 357, इण्डियन पीपुल्स ग्रीन पार्टी के धर्मी घुणावत को 1 हजार 635, सोसियलिस्ट पार्टी (इण्डिया) की रुकमणि मीना जाखीवाल को 917 वोट मिले। वहीं 8 हजार 410 लोगों ने नोटा में वोट किया था। सात प्रत्याशियों से अधिक नोटा को वोट मिले।

 


यह होती है जमानत राशि


चुनाव लडऩे वाले प्रत्याशी को उस सीट के लिए पड़े वैध मतों का छठा हिस्सा या 16.6 प्रतिशत वोट से अधिक मत मिले तो उसकी जमानत राशि बचती है। यदि इससे कम वोट मिले तो उसकी जमानत राशि जब्त हो जाती है। जानकारी के अनुसार लोकसभा चुनाव में सामान्य जाति के प्रत्याशी के लिए 25 हजार व एससी/एसटी के प्रत्याशी को 12 हजार 500 रुपए आवेदन पत्र खरीदते समय निर्वाचन आयोग में जमा कराने पड़ते हैं।

 

इसी प्रकार विधानसभा चुनाव में सामान्य वर्ग के प्रत्याशी को 10 हजार व एससी/एसटी के प्रत्याशी को 5 हजार रुपए जमा कराने होते हैं। यदि किसी प्रत्याशी को उस चुनाव में पड़े मतों का छठा हिस्सा(16.6 प्रतिशत) से कम वोट मिलते हैं तो उस प्रत्याशी की निर्वाचन आयोग की ओर जमा राशि को जब्त कर लिया जाता है। यदि इससे अधिक वोट मिले तो वह राशि वापस मिल जाती है।

 

 

2014 के चुनाव की तस्वीर


कुल मतदाता - 1522441
कुल पड़े वोट - 930492
जमानत बचाने के लिए चाहिए- 155082
प्रत्याशी - 14
जमानत बची - 3
जमानत जब्त - 11

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned