बाल-विवाहों की रोकथाम के लिए अभियान शुरू, कंट्रोल रूम गठित

Campaign for prevention of child marriages started, control room set up: जिला विधिक सेवा प्राधिकरण ने शनिवार को बाल विवाह प्रतिषेध अभियान की शुरुआत की

By: gaurav khandelwal

Published: 03 Apr 2021, 07:46 PM IST

दौसा. राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण की ओर से अबूझ सावों पर होने वाले बाल-विवाहों की रोकथाम के लिए 3 अप्रेल से 30 जून तथा 1 नवंबर से 31 दिसम्बर तक ‘बाल विवाह को कहें ना’ अभियान चलाया जा रहा है। इसे लेकर जिला विधिक सेवा प्राधिकरण ने शनिवार को बाल विवाह प्रतिषेध अभियान की शुरुआत की।

Campaign for prevention of child marriages started, control room set up

जिला सचिव प्रदीप कुमार ने बताया कि समाज में व्याप्त अशिक्षा, लोगों की मानसिकता, सामाजिक असमानता के कारण आज भी गांवों में बाल विवाहों का आयोजन किया जा रहा है। इसके दुष्परिणाम स्वरूप बालिकाओं को शारीरिक, मानसिक एवं आर्थिक शोषण का शिकार होना पड़ता है। इस सामाजिक कुरीति को दूर करने के लिए अभियान चलाया जा रहा है। इसमें न्यायिक अधिकारियों, पैनल अधिवक्ता एवं पी.एल.वी. द्वारा विभिन्न विधिक जागरुकता शिविरों एवं कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा।


अभियान के क्रियान्वयन के लिए जिले में टॉस्क फोर्स व कंट्रोल रूम का भी गठन किया गया है। बाल विवाह होने की जानकारी दूरभाष नंबर 01427-294224 तथा मोबाइल नंबर 83060002114 पर दी जा सकती है। दौसा जिला अभिभाषक संघ के अध्यक्ष अवधेश शर्मा ने अभियान में सहयोग देने का भरोसा दिया। वरिष्ठ अधिवक्ता डीपी सैनी ने बाल विवाह रोकथाम के कानूनी प्रावधानों की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि बाल विवाह में सहयोग देने वाले प्रत्येक व्यक्ति चाहे माता-पिता, नातेदार-रिश्तेदार, पंडित टैंट वाला, हलवाई आदि सभी दो वर्ष तक के कठोर कारावास एवं जुर्माने से दंडित किए जा सकते हंै। इस दौरान रोटरी क्लब के विनोद गौड़, शिवशंकर सोनी आदि भी मौजूद थे।

Campaign for prevention of child marriages started, control room set up

शिक्षकों के वैक्सीनेशन की मांग


दौसा. राजस्थान शिक्षक संघ राष्ट्रीय की स्थाई समिति ने शिक्षा मंत्री को पत्र भेजकर माध्यमिक सेटलप के शिक्षकों के भी कोरोना वैक्सीनेशन कराने की मांग की है। जिला मंत्री राजकुमार नेतावाला ने बताया कि कक्षा 6 से 12 तक स्कूलों में कक्षाएं लग रही हैं, लेकिन शिक्षकों व व्याख्याताओं को अब तक टीके से वंचित रखा गया है। पंडित राधेश्याम शर्मा, विभाग संगठन मंत्री कालूराम मीणा, जिलाध्यक्ष परीक्षित शर्मा, कोषाध्यक्ष रामबाबू शर्मा, गोविंद सहाय, जिला संगठन मंत्री राजेंद्र शर्मा, गुलाबचंद शर्मा आदि ने भी टीकाकरण की मांग की।

gaurav khandelwal Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned