दौसा. यदि सब कुछ सही रहा तो दौसा-डिडवाना नवनिर्मित रेलवे टे्रक पर जल्द ही टे्रन का संचालन हो सकेगा। इसके लिए भारतीय रेलवे के मुख्य संरक्षा आयुक्त पश्चिम क्षेत्र सुशीलचन्द्र ने निरीक्षण किया। दो दिवसीय दौरे के प्रथम दिवस गुरुवार को उन्होंने स्टेशन अधीक्षक ऑफिस से लेकर टे्रक तक टे्रन चलाने से जुड़े प्रत्येक पहलू की बारीकी से जांच की। सैफ्टी क्लियरेंस के बाद इस टे्रक पर टे्रन का संचालन होगा। सीआरएस स्पेशल टे्रन से दस बजे स्टेशन पहुंचने के बाद उन्होंने सबसे पहले स्टेशन अधीक्षक कार्यालय में नए टे्रक पर टे्रन चलाने से संबंधित जानकारी ली।

 

स्टेशन पर पूजा-अर्चना के बाद वेेे टे्रक पर होते हुए मण्डी फाटक पहुंचे। वहां से मोटर ट्रॉली में बैठकर जांच करते हुए करीब चार बजे नांगल पहुंचे। इस दौरान ६ मोटर ट्रालियों में उत्तर-पश्चिम रेलवे के आला अधिकारी भी साथ थे। इससे पहले स्पेशल टे्रन टे्रक पर आगे चल रही थी। इस दौरान सफाईकर्मी भी टे्रक की सफाई करते दिखाई दिए। इसके बाद वे स्पेशल टे्रन से वापिस ५ बजे दौसा स्टेशन पहुंचे।

 

उल्लेखनीय है कि वर्ष१९९६-९७ में स्वीकृत दौसा-गंगापुर रेलखण्ड पर डिडवाना तक ३५.४४ किलोमीटर तक तैयार टे्रक पर टे्रन चलाने की तैयारी है। इस मौके पर मुख्य वाणिज्यिक प्रबंधक जेएस मीना, सीएसटी प्रोजेक्ट अरुणासिंह, चीफ इंजीनियर टीएमटी एमके गुप्ता, एडीआरएम हरीशचन्द्र मीना, मुख्य उप अभियंता केएल मीना सहित रेलवे के सिग्नल एवं दूरसंचार, निर्माण, यातायात आदि शाखाओं के आला अधिकारी मौजूद थे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned