दौसा. निरंतर बढ़ रही मरीजों की संख्या, नहीं मिल रहे बेड

घर-घर में मौसमी बीमारियों की मार, जिला अस्पताल का आउटडोर प्रतिदिन करीब 2 हजार

By: Rajendra Jain

Published: 10 Sep 2021, 08:06 AM IST

दौसा. जिले में इन दिनों वायरल बुखार, खांसी, जुकाम सहित मौसमी बीमारियों का प्रकोप चल रहा है। लोग घर-घर में बीमार हैं। चिकित्सकों के पास मरीजों की लम्बी कतार तो जिला अस्पताल का आउटडोर व इनडोर बढ़कर दोगुना हो गया है। यहां तक की मेडिकल वार्ड में मरीजों को बेड नहीं मिलने से बैंचों पर ही इलाज कराना पड़ रहा है। जिले में पिछले महीने के अंतिम सप्ताह से ही मौसमी बीमारियों से मरीज बढऩे लग गए थे, लेकिन इस महीने तो मरीजों की संख्या दिनों-दिनों ही बढ़ती जा रही है। जिला अस्पताल के पर्ची काउंटर पर गत महीने जितनी भीड़ देखी जा रही थी, अब उससे कहीं अधिक भीड़ देखने को मिल रही है। जिला अस्पताल में आने वाले मरीजों में से 70 फीसदी मरीज वायरल, बुखार, उल्टी, बदनदर्द व डेंगू के आ रहे हैं। जिला अस्पताल ही नहीं ग्रामीण इलाकों के सरकारी अस्पतालों में भी वर्तमान में आउटडोर बढ़ रहा है। साथ ही इंडोर की भी हालत खराब है। चिकित्सकों कहना है कि इन दिनों मौसम परिवर्तन के कारण मरीजों की संख्या बढ़ रही है। दिन के समय भीषण गर्मी पड़ती है तो सुबह के समय तापमान गिर जाता है। इससे लोग बीमार हो रहे हैं। (निसं)
दो-दो घंटे में नहीं आती है बारी: दौसा जिला अस्पताल में चिकित्सकों के चैम्बरों एवं उनके आवास पर मरीजों की संख्या बढऩे से मरीजों की दो-दो घंटे में बारी नहीं आती है। खासकर फिजिशियन चिकित्सकों के चैम्बरों के आगे मरीजों की लम्बी कतार देखने को मिल रही है। इसी प्रकार जिला अस्पताल के जितने भी फिजिशियन चिकित्सक हैं, उनके आवास पर सुबह से शाम तक मरीजों की कतार लगी रहती है। (निसं)
लगातार बढ़ रहा आंकड़ा: जिला अस्पताल में 1 से 31 अगस्त तक 45 हजार 825 मरीजों ने चिकित्सकों से परामर्श लिया। इस तरह यदि औसत मरीजों की स्थिति देखी जाए तो करीब 1520 मरीज प्रतिदिन आउटडोर में आए। इसके अलावा वार्ड में भर्ती होने वाले मरीजों की संख्या भी 100 के आसपास रही। वहीं सितम्बर में प्रतिदिन औसत मरीजों का आंकड़ा दो हजार तक पहुंच गया है।

पर्ची बनवाने में ही थक जाते हैं
जिला अस्पताल में चिकित्सकों को दिखाने के लिए पर्चियां बनवाने के लिए काउंटरों पर इतनी भीड़ हो जाती है उसमें काफी समय लग जाता है। मरीजों को जैसे-तैसे पर्ची मिल जाती है तो फिर जिन चिकित्सकों को उनको दिखाना होता है उनके चैम्बरों के आगे भी उनको घंटों तक इंतजार करना पड़ता है। इसी प्रकार प्रयोगशाला में भी जांच के लिए मरीजों को कतार लग कर रहना पड़ रहा है। मरीज जब चिकित्सकों को दिखाते हंै उनकी जांच लिखते हैं तो उनको भी प्रयोगशाला में अपनी बीमारी की जांच कराने के लिए खड़े रहना पड़ रहा है।

मौसमी बीमारी का है प्रकोप
जिले में इन दिनों मौसमी बीमारियों का दौर चल रहा है। इसके चलते वायरल, बुखार, खांसी, जुकाम, हाथ-पैरों में दर्द सहित कई बीमारियों का प्रकोप चल रहा है।
- डॉ. आरके मीना, फिजिशियन जिला अस्पताल दौसा

Rajendra Jain
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned