दौसा: जीरो मोबिलिटी में दौड़ रहे वाहन, पुलिस व प्रशासन नहीं दे रहा है ध्यान

लॉकडाउन की भी नहीं हो रही है पालना

By: Mahesh Jain

Updated: 10 May 2020, 07:02 PM IST

दौसा. कहने को तो जिला प्रशासन ने जिले में चार जगह जीरो मोबिलिटी (कफ्र्यू ) लागू कर रखी है, लेकिन असल में अब न पुलिस- प्रशासन पालना करा रहा है और ना ही लोग कर रहे हैं। जबकि जीरो मोबिलिटी का तात्पर्य है कि उस इलाके में निवास करने वाले लोग बिना ढील दिए अपने मकान की देहरी से बाहर कदम नहीं रख सकते हैं। जबकि दौसा मुख्यालय एवं अन्य स्थानों पर तो लोग अपने मकान की देहरी ही नहीं गली व मोहल्लों में आराम से घूम रहे हैं।

यहां दौसा मुख्यालय पर तो गलियों में लोगों के झुण्ड के झुण्ड आपस में बतियाते और घूमते हर रोज नजर आ रहे हैं। उनको न कोरोना वायरस के संक्रमण का भय है और ना ही पुलिस प्रशासन का डर। पुलिस व प्रशासन की ढिलाई के चलते जिला मुख्यालय पर लोग जीरो मोबिलिटी की सरेआम धज्जियां उड़ाते नजर आ रहे हैं। दिनभर में किसी भी समय देखो तो गलियों में लोगों के झुण्ड नजर आते हैं। पुलिस देखकर भी कार्रवाई नहीं कर पा रही है।

लोगों से पूछताछ नहीं
जिला मुख्यालय पर पुलिस कंट्रोल रूम से लेकर पंचायत समिति रोड पर कफ्र्यू का इलाका है। कहने को तो यहां पर पुलिस के कई प्वाइंट बने हुए हैं। इन पर भारी पुलिस जाप्ता भी तैनात रहता है। इस मार्ग पर पुलिस कंट्रोल रूम, नागौरी पुलिया, पुराने सिनेमा के आगे, रामकरण जोशी स्कूल के खटीकान मोहल्ले के प्रवेश करनेवाली गली, रामकरण जोशी स्कूल के मुख्य दरवाजे के सामने, पंचायत समिति के सामने, माली के कुए के पास सहित पुलिस ने कई प्वाइंट बना रखे हैं। पुलिस, होमगार्ड व आरएसी का जाप्ता भी तैनात रहता है, लेकिन पुलिस कंट्रोल रूम व गांधी तिराहे के जाप्ते के अलावा कहीं भी कोई भी पुलिसकर्मी शहर में आवागमन करने वाले लोगों से पूछताछ नहीं करते हैं। चाहे बाइक पर तीन ही सवारी क्यों नहीं जा रही है। चौपहिया वाहन में भी सवारियों को पूछने वाला कोई नहीं है।

लालसोट रोड पर सरपट दौड़ते हैं वाहन
जिला मुख्यालय पर लालसोट रोड पर दिनभर सरपट वाहन दौड़ते हैं, जबकि इस रोड पर करीब आधा दर्जन पुलिस प्वाइंट है, लेकिन पुलिस कंट्रोल रूम प्वाइंट के अलावा कहीं भी कोई नहीं पूछता है। ऐसे में लोग वहां से प्रवेश कर शहर में वाहनों से धड़ल्ले से घूमते हैं।

आंख-मिचौनी का खेल
शहर के मण्डी रोड को भी पुलिस कफ्र्यूग्रस्त इलाका मान रही है। ऐसे में पुलिस यहां प्रतिष्ठानों को बंद करा जाती है और व्यापारी दुकान खोल लेते हैं। यहां पुलिस व दुकानदारों के बीच आंख मिचौनी का खेल खेला जा रहा है। पुलिस आती है तो व्यापारी दुकानें बंद कर देते हैं और चली जाती है तो खोल लेते हैं।

दौसा: जीरो मोबिलिटी में दौड़ रहे वाहन, पुलिस व प्रशासन नहीं दे रहा है ध्यान
Mahesh Jain Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned