अपने घर में भी पार्टी प्रत्याशी को नहीं जिता पाए राजनीति के धुरंधर

दोनों दलों के जिलाध्यक्षों के गांव में भी विपरीत परिणाम, लालसोट में भी स्थिति बदली, महुवा में भी रोचक परिणाम

By: gaurav khandelwal

Published: 26 May 2019, 08:17 AM IST

दौसा. जिले की राजनीति के धुरंधर माने जाने वाले कई नेताओं के गृह बूथ पर भी विपरीत परिणाम लोकसभा चुनाव की मतगणना में आए हैं। लोकसभा चुनाव में संबंधित पार्टी के लिए पूरे विधानसभा क्षेत्र की जिम्मेदारी संभाल रहे कई नेताओं के अपने घर में ही सेंध लग गई। उद्योग मंत्री सहित भाजपा-कांग्रेस के कई नेताओं के गांवों के परिणाम रोचक रहे हैं।

 

 


लालसोट में उद्योग मंत्री परसादीलाल मीना के बूथ नंबर 230 पर कांग्रेस की 129 वोट से हार हुई। यहां भाजपा को 304 तो कांग्रेस को 175 वोट मिले। इसी तरह लालसोट से भाजपा के टिकट पर विधानसभा चुनाव लड़े रामबिलास मीना के बूथ 64 से कांग्रेस 80 वोट से जीती। यहां भाजपा को 176 तो कांग्रेस को 256 मत मिले। इस चुनाव में लालसोट क्षेत्र में स्थिति बदली हुई नजर आई। जहां विधानसभा चुनाव में पचवारा इलाके में भाजपा मजबूत थी, वहीं इस बार कांग्रेस मजबूत रही। वहीं मंडावरी इलाके में इस बार कांग्रेस पिछड़ी, जबकि विधानसभा चुनाव में एकतरफा जीती थी।

 

 


महुवा में कांग्रेस के टिकट पर विधायक का चुनाव लड़े अजय बोहरा के बूथ 158 पर कांग्रेस की 350 वोट के बड़े अंतर से हार हुई। यहां कांग्रेस को 197 तथा भाजपा को 547 वोट मिले। इसी तरह कांग्रेस नेता पूर्वजिला प्रमुख अजीतसिंह महुवा के बूथ नंबर 211 से भी कांग्रेस को 23 मतों से हारना पड़ा। यहां भाजपा को 288 तथा कांग्रेस को 265 वोट मिले। हालांकि उनके गांव खेड़ला बुजुर्ग के तीनों बूथों का कुल परिणाम देखें तो कांग्रेस को 119 मतों से जीत मिली है। गांव में कांग्रेस को 872 तथा भाजपा को 753 वोट मिले। भाजपा जिलाध्यक्ष घनश्याम बालाहेड़ी के गांव के बूथ नंबर 99 व 100 में कुल कांग्रेस को 540 तथा भाजपा को 405 मत मिले। 135 वोट से कांग्रेस को जीत मिली।

 


भाजपा के विधायक प्रत्याशी प्रत्याशी राजेन्द्र मीना के बूथ 196 पर भाजपा की 92 मतों से जीत हुई। यहां भाजपा को 330 तथा कांग्रेस को 238 वोट मिले। गौरतलब है कि यह बूथ खोहरा मुल्ला गांव का है। डॉ. किरोड़ीलाल मीना का भी यही गांव है। वहीं महुवा विधायक ओमप्रकाश हुड़ला के बूथ नंबर 114 पर कांग्रेस ने 459 मतों के बड़े अंतर से एकतरफा जीत हासिल की। यहां भाजपा को 112 तो कांग्रेस को 571 वोट मिले।

 


बांदीकुईमें विधायक जीआर खटाणा के बूथ नंबर 76 पर कांग्रेस ने मात्र 88 वोट से जीत दर्ज की। यहां कांग्रेस को 369 तथा भाजपा को 281 वोट मिले। भाजपा के विधायक प्रत्याशी रामकिशोर सैनी के बूथ नंबर 103 पर भाजपा ने एकतरफा 503 मतों से जीत हासिल की। यहां भाजपा को 668 तथा कांग्रेस को 165 वोट मिले। कांग्रेस नेता व पूर्व मंत्री शैलेन्द्र जोशी के बूथ पर भी कांग्रेस 604 मतों के बड़े अंतर से हारी। यहां कांग्रेस को मात्र 127 तथा भाजपा को 731 वोट मिले।

 

 

इसी तरह बसपा के टिकट पर विधायक का चुनाव लड़े भागचंद टांकड़ा के बूथ नंबर 126 पर भाजपा ने 541 वोटों से जीत पाई। यहां भाजपा को 676, कांग्रेस को 135 तथा बसपा को मात्र 14 वोट मिले। कांग्रेस प्रत्याशी सविता मीना के ससुराल व दौसा विधायक मुरारीलाल मीना के गांव आलियापाड़ा बूथ नंबर 234 पर कांग्रेस एकतरफा 469 मतों से जीती। यहां कांग्रेस को 480 तथा भाजपा को मात्र 11 वोट मिले।

 


सिकराय में महिला एवं बाल विकास राज्यमंत्री ममता भूपेश के बूथ नंबर 134 पर कांग्रेस 81 वोट से जीती। यहां कांग्रेस को 404 तथा भाजपा को 323 वोट मिले। इसी तरह विधायक का चुनाव लडऩे वाले विक्रम बंशीवाल के बूथ नंबर 50 पर भाजपा ने 21 वोट से जीत पाई। यहां भाजपा को 268 तथा कांग्रेस को 247 वोट मिले। कांग्रेस जिलाध्यक्ष के गांव सिकंदरा के बूथ नंबर 131 से 138 तक में कुल कांगे्रस को 2 हजार 326 तथा भाजपा को 2 हजार 540 वोट मिले। कांग्रेस को यहां 214 मतों से हार का सामना करना पड़ा। भाजपा नेता व पूर्व मंत्री रामकिशोर मीना के गांव डोलिका के बूथ नंबर 120 पर भी कांग्रेस 396 वोटों से जीती। यहां कांग्रेस को 556 तथा भाजपा को 160 वोट मिले।

 


दौसा में कांग्रेस प्रत्याशी सविता मीना व विधायक मुरारीलाल मीना के बूथ नंबर 111 पर कांग्रेस 94 मतों से विजयी रही। यहां कांग्रेस को 325 तथा भाजपा को 231 वोट मिले। इसी तरह पूर्व विधायक व भाजपा नेता शंकरलाल शर्मा के बूथ नंबर 135 पर भाजपा 232 वोट से जीती। यहां भाजपा को 490 तथा कांग्रेस को 258 वोट मिले।

BJP Congress
gaurav khandelwal Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned