नीलामी नहीं होने से भड़के किसान, मंडी गेट पर जड़ा ताला, मंडी के बाहर बने रहे जाम के हालात

- आढ़तियों व ट्रक यूनियन के बीच विवाद के चलते नहीं हुई नीलामी

By: Mahesh Jain

Published: 08 Oct 2020, 09:12 PM IST

लालसोट(दौसा). शहर की कृषि उपज मंडी में गुरुवार को बिना किसी सूचना कृषि जिंसों की नीलामी नही होने से किसान भड़क उठे। किसानों ने मंडी गेट पर ताला जड़ दिया दिया और करीब तीन घंटे तक नीलामी शुरू करने एवं मंडी आढ़तियों के खिलाफ मनमानी के आरोप लगाते हुए प्रदर्शन किया।

गौरतलब है कि क्षेत्र मे पंचायत चुनाव संपन्न होने के साथ कृषि उपज मंडी में कृषि जिंसों की बंपर आवक शुरू हो चुकी है। इसके चलते गुरुवार को मंडी में सैकड़ों किसान मूंगफली व अन्य फसल को अपने-अपने वाहनों में भर कर बेचने के लिए मंडी पहुंचे। जब दोपहर दो बजे तक जब मंडी में नीलामी शुरू नही हुई तो किसानों ने हंगामा मचना शुरू कर दिया और सैकड़ों किसान मंडी गेट पर जा पहुंचे। मंडी गेट पर ताला जड़ दिया। इस दौरान किसानों ने मंडी प्रशासन व व्यापारियों के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी करना शुरू कर दिया। मंडी के बाहर वाहनों की कतारें लग गई।
किसानों का कहना था कि मंडी के आढ़तियों ने अपनी मनमानी करते हुए बिना किसी सूचना मंडी में गुरुवार को कामकाज बंद कर दिया है। इसके चलते उनकी मेहनत की उपज मंडी से सड़क पर पड़ी है। किसानों का कहना था कि मंडी में आढ़तियों की मनमानी के चलते किसानों को अपनी फसल औने-पौने दामों में बेचने के लिए मजबूर है। मौके पर मौजूद भाजपा नेता रामजीलाल डोई ने आरोप लगाया कि किसान सुबह से भूखे-प्यासे अपनी फसल को बेचने के लिए पहुंचे है, लेकिन आढ़तिए आज नीलामी नहीं होने की बात कह रहे हंै।

उन्होंने कहा कि मंडी प्रशासन व आढ़तियों द्वारा किसानों को परेशान किया जाता है और मंडी को बंद करने के अगले दिन किसानों की फसल को कम दामों पर खरीद कर उनके साथ अन्याय किया जाता है। मामले की जानकारी मिलने पर मौके पर लालसोट कार्यवाहक एसएचओ महावीर प्रसाद व तहसीलदार भरोसीलाल जाटव भी पहुंचे, लेकिन किसान मंडी में नीलामी शुरू कराने की मांग पर अड़ गए। किसानों का कहना था कि जब तक मंडी में उनकी फसल की नीलामी शुरू नहीं होगी, तब तक उनका आंदोलन जारी रहेगा और वे मंडी के गेट नही खोलेंगे। वहीं मामले की जानकारी मिलने पर कृषि उपज मंडी सचिव ममता गुप्ता भी मंडावरी मंडी से लालसोट पहुंच गई और मंडी के आढ़तियों और किसानों से वार्ता शुरू की।


आढ़तियों ने ट्रक यूनियन को बताया जिम्मेदार

विवाद को लेकर मंडी के आढ़तियों ने ट्रक यूनियन के मनमाने रवैये को जिम्मेदार बताया है। ग्रेन मर्चेन्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष नवन झालानी व पूर्व अध्यक्ष जगदीश अग्रवाल ने बताया कि ट्रक यूनियन ने मनमानी करते हुए बुधवार व गुरुवार को मंडी में माल लोड कराने के लिए ट्रक नहीं दिए हैं। मंडी में बुधवार को नीलाम हुई 15 हजार बोरी को लोड होना शेष है। ट्रक यूनियन के साथ वजन को लेकर हुए विवाद का हल गुरुवार तीन बजे हुआ है। इसके बाद मंडी में माल की नीलामी होना संभव नहीं है। अब शुक्रवार को मंडी नियमित रूप से चलेगी।
लगी वाहनों की कतारें

किसानों द्वारा मंडी गेट पर ताला जडऩे के बाद लालसोट- कोटा मेगा हाइवे और नेशनल हाइवे 11 बी पर जाम के हालात बन गए और रोड के दोनों ओर करीब एक किमी तक वाहनों की लंबी कतारें भी लग गई। कुछ देर बाद मौके पर पहुंचे पुलिसकर्मियों ने यातायात को सुचारू करने की मशक्कत शुरू की, लेकिन पर्याप्त जाप्ते के अभाव में पुलिसकर्मी यातायात सुचारू नहीं करा सके।

नीलामी नहीं होने से भड़के किसान, मंडी गेट पर जड़ा ताला, मंडी के बाहर बने रहे जाम के हालात
Mahesh Jain Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned