बेटी की हत्या का आरोपी पिता रिमांड पर, अपहरण के आरोप में मां सहित आठ परिजन जेल में

Father accused of killing daughter on remand in dausa: ऑनर किलिंग का मामला

By: gaurav khandelwal

Updated: 05 Mar 2021, 07:58 PM IST

दौसा. शादी के बाद प्रेमी के साथ लिव इन रिलेशनशिप में रह रही बेटी की हत्या के मामले में आरोपी पिता को पुलिस ने शुक्रवार को न्यायालय में पेश किया। कोतवाली थाना प्रभारी सुगन सिंह ने बताया कि आरोपी पिता शंकरलाल सैनी को एमजेएम कोर्ट में न्यायाधीश नीलम कुमारी ने एक दिन के रिमांड पर सौंपा है। रिमांड के दौरान पुलिस आरोपी से बेटी पिंकी की हत्या को लेकर विस्तृत रूप से पूछताछ करेगी।

Father accused of killing daughter on remand in dausa


वहीं पिंकी के अपहरण के मामले में एक और आरोपी मीना सैनी को पकड़ा गया। इस मामले में पुलिस ने पिंकी की मां चमेली सहित कुल 6 महिला व 2 पुरुषों को गिरफ्तार किया है। जांच अधिकारी दौसा सीओ डॉ. दीपक शर्मा ने बताया कि अपहरण के मामले में सभी आठों आरोपियों को अपर जिला एवं सेशन न्यायाधीश सोनिया बेनिवाल के समक्ष पेश किया। जहां से उन्हें 15 दिन की न्यायिक अभिरक्षा में भेज दिया गया। पुलिस ने सभी आरोपियों को सुरक्षा में जिला अस्पताल ले जाकर कोरोना जांच भी कराई है। वहीं प्रेमी युवक के घर पुलिस का पहरा लगा रहा।


गौरतलब है कि 16 फरवरी को पिंकी की शादी लालसोट क्षेत्र में हुई थी। इसके बाद जब वह पीहर आई तो 21 फरवरी को प्रेमी के साथ चली गई। पीहर पक्ष ने प्रेमी व उसके परिजनों के खिलाफ पुलिस थाने में अपहरण का मामला दर्ज करा दिया। इसके बाद लडक़े व लडक़ी ने राजस्थान उच्च न्यायालय की शरण ली। न्यायालय में लडक़ी ने लिखित में दिया कि उसकी शादी जबरन की गई है और वह प्रेमी के साथ लिव इन रिलेशनशिप में रहना चाहती है।

न्यायालय ने पुलिस को दोनों को सुरक्षा उपलब्ध कराते हुए उनकी इच्छानुसार सुरक्षित स्थान पर ले जाने के निर्देश दिए। 1 मार्च को प्रेमी जोड़ा दौसा स्थित लडक़े के घर पहुंचा। लडक़ी के परिजनों को इस बात की जानकारी लगी तो वे लोग लडक़े के घर पहुंचे और खिडक़ी तोडकऱ अंदर घुस गए व जबरन लडक़ी को ले गए। इस संबंध में लडक़े के परिजनों ने पुलिस थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई थी। दो दिन तक पुलिस लडक़ी को तलाश नहीं कर सकी। बुधवार देर रात करीब तीन बजे लडक़ी के पिता शंकरलाल ने महिला थाने पहुंचकर बेटी की हत्या करने की बात कही। इस पर पुलिस तंत्र में हडक़म्प मच गया। खास बात यह है कि अपहरण के मामले में जिस लडक़ी को पुलिस ढूंढ रही थी, वह आरोपी पिता के घर में ही थी और पुलिस को भनक भी नहीं लगी। इससे दौसा पुलिस सवालों के घेरे में आ गई है।

समझाइश के दौरान बिगड़ी बात


दौसा लाकर परिजनों ने प्रेमी को भूल जाने के लिए पिंकी को काफी समझाया। सामाजिक इज्जत व शादी के दौरान कर्जा लेकर हुए पैसे खर्च करने का हवाला भी दिया, लेकिन पिंकी अपने प्रेमी रोशन के साथ रहने पर अड़ी रही। पुलिस रिपोर्ट के अनुसार आरोपी पिता ने थाने में आकर बताया कि सभी परिजनों को पुराने मकान में सोने के लिए भेजकर उसने अकेले में पिंकी के हाथ-पैर जोडकऱ परिवार की नाक कटने का हवाला देकर भी मनाने की कोशिश की, लेकिन वह जिद पर अड़ी रही। इससे गुस्सा होकर उसने थप्पड़ मार दिया तो पिंकी ने हाथों की अंगुली काट ली। इस पर आरोपी ने मुंह पर मुक्के मार व गला दबाकर पिंकी की हत्या कर दी। पुलिस के अनुसार 1 मार्च को जब पिंकी का प्रेमी रोशन के घर से अपहरण हुआ था, तब पिता शामिल नहीं था। पिंकी की मां चमेली सहित कुछ महिलाएं व पुरुष शामिल थे।

Father accused of killing daughter on remand in dausa

इनका कहना है...
दौसा पुलिस के पास सुरक्षा मुहैया कराने के कोई आदेश नहीं थे। राजस्थान उच्च न्यायालय के आदेश पर पीडि़तों की इच्छा के अनुसार स्थानीय जयपुर की अशोक नगर थाना पुलिस ने सुरक्षा के बीच त्रिवेणी नगर कच्ची बस्ती दोनों को छोडकऱ आई थी। दौसा आने की पीडि़तों ने पुलिस को सूचना नहीं दी। अपहरण के बाद आकर बताया। इस पर तत्काल युवक के घर पुलिस तैनात कर लडक़ी की दस्तयाबी के प्रयास शुरू कर दिए थे। अपहरणकर्ताओं ने पुलिस से बचने के लिए पिंकी को छुपा रखा था। हत्या की वारदात से कुछ देर पहले ही आरोपी उसे समझाने के लिए लेकर गुपचुप रूप से पहुंचे थे।
अनिल बेनीवाल, पुलिस अधीक्षक दौसा

Father accused of killing daughter on remand in dausa

gaurav khandelwal Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned