देवनगरी में अभी मंदिर और भक्त के बीच बनी रहेगी दूरी

प्रशासन का मौखिक फरमान, नहीं खोले जाएं मंदिर, धरी रह गई मंदिर प्रशासन की तैयारियां

By: Rajendra Jain

Published: 07 Sep 2020, 12:17 PM IST

दौसा. कोरोना माहमारी के चलते करीब साढ़े पांच माह बाद 7 सितम्बर से मंदिर खोलने के भले ही राज्य सरकार ने आदेश जारी कर दिए, लेकिन देवनगरी दौसा में प्रशासन ने सभी प्रमुख मंदिरों की कमेटियों को मौखिक फरमान जारी कर फिलहाल सोमवार से मंदिर खोलने की मनाही कर दी है। ऐसे में अभी दौसा में तो देवालय और भक्त के बीच की दूरी खत्म नहीं हो रही। इधर, सरकार के आदेश के बाद से कमेटियां मंदिर को खोलने की तैयारियों में जुटी हुई थी। रविवार को प्रशासन के निर्देश के बाद सारी तैयारियां धरी रह गई।
दौसा जिला मुख्यालय पर पंच महादेव मंदिर सहित गिरिराज धरण, श्याम मंदिर, दुर्गा मंदिर आदि प्रमुख देवालय हैं। इनमें न्यूनतम 100 से 1000 के बीच श्रद्धालु आते हैं। त्योहार या दिवस विशेष पर संख्या अधिक भी हो जाती है। हालांकि अभी श्राद्ध पक्ष चल रहे हैं, ऐसे में भीड़ आने की संभावना नगण्य है। इसके बावजूद प्रशासन की ओर से मंदिरों को खुलने से रुकवाना कमेटी के सदस्यों को समझ नहीं आ रहा। प्रशासन की ओर से मंदिर कमेटियों के पदाधिकारियों को फोन पर कहा गया है कि अभी एक-दो दिन बार बैठक की जाएगी। इसके बाद ही मंदिर खोले जाएं।
देवगिरी स्थित नीलकंठ महादेव मंदिर में सोमवार से श्रद्धालुओं के लिए दर्शन चालू करने की तैयारियों दो दिन पहले से ही शुरू हो गई थी। मंदिर परिसर को सेनेटाइज करवा लिया गया। श्याम मंदिर चरणधाम में रविवार को हाइपोक्लोराइड का छिड़काव किया गया। अचानक प्रशासन से फोन आने के बाद श्रद्धालुओं को उत्साह ठण्डा हो गया। नेशनल हाइवे स्थित गिरिराजधरण मंदिर में सोशल डिस्टेंसिंग के लिए छह-छह फीट पर गोले बनवा लिए गए। हाइपोक्लोराइड के छिड़काव व पेडल सेनेटाइजर की मशीन खरीद ली। थर्मल स्केनर मंगवाकर श्रद्धालुओं का तापमान तक जांचने की तैयारी की गई। इसी तरह गुप्तेश्वर महादेव मंदिर में भी कोरोना महामारी के बीच मंदिर खोलने की योजना बना ली गई थी। यहां मुख्य मंदिर में प्रवेश बंद रखकर सिर्फ द्वार से दर्शन कराने का निर्णय किया गया है। घंटी, रामझारे सहित अन्य सामान हटवा दिया। इसी तरह सोमनाथ महादेव सहित अन्य शहर के मंदिरों में तैयारियां की गई।

30 सितम्बर तक बंद रहेगा मेहंदीपुर बालाजी मंदिर
मेहंदीपुर बालाजी मंदिर अभी 30 सितम्बर तक बंद रहेगा। जानकारी के अनुसार भारत सरकार की गाइड लाइन की पालना वर्तमान परिस्थितियों में कराया जाना सम्भव नहीं हो सकने के बाद मंदिर प्रबंधन व प्रशासन ने 30 सितंबर तक मन्दिर को श्रद्धालुओं के लिए बंद रखने का निर्णय किया है। इधर, दौसा के जैन समाज के प्रवक्ता संजय जैन ने बताया कि आदिनाथ दिगम्बर जैन मंदिर भी फिलहाल आम श्रद्धालुओं के लिए सोमवार से नहीं खुलेगा।

प्रशासन ने रुकवाया
सरकार की गाइड लाइन के अनुसार मंदिर खोलने की तैयारियां पूरी कर ली थी, लेकिन प्रशासन की ओर से रविवार सुबह फोन आया कि अभी मंदिर मत खोले। पहले बैठक कर फिर तय किया जाएगा। ऐसे में सोमवार से श्रद्धालुओं के लिए मंदिर नहीं खुलेगा।
द्वारकाप्रसाद, सचिव गिरिराजधरण मंदिर समिति दौसा

रविवार को सेनेटाइजेशन कराकर सोमवार से मंदिर खोलने की तैयारी की, लेकिन प्रशासन ने अचानक फोन कर बैठक आयोजित करने के बाद ही मंदिर खोलने को कहा है। इसके चलते अब सोमवार से मंदिर नहीं खुलेगा।
राजेश ठाकुरिया, श्याम मंदिर चरणधाम दौसा

प्रशासन के प्रतिनिधि का फोन आने के बाद अब सोमवार से मंदिर नहीं खुलेगा। बैठक में जो निर्णय होगा अब उसके अनुरूप कार्य किया जाएगा।
अभिनंदन गुप्ता, सचिव, गुप्तेश्वर महादेव मंदिर समिति दौसा

सुबह प्रशासन की ओर से फोन आया था कि अगले आदेश तक मंदिर बंद रखो। अब क्या करें, मना किया है तो सोमवार से तो नहीं खुलेगा।
नरेन्द्र जैमन, सोमनाथ मंदिर दौसा

कलक्ट्रेट से फोन आया था कि अभी बैठक कर मंदिर खोलने पर चर्चा की जाएगी, इसलिए सोमवार से श्रद्धालुओं के लिए दर्शन चालू नहीं होंगे।
दिनेश जायसवाल, नीलकंठ महादेव मंदिर समिति

हमने नहीं रोका, मंदिर कमेटियों का निर्णय
प्रशासन की ओर से रोक नहीं है। प्रबंधन कमेटियों का सबका यह निर्णय है कि मंदिर अभी नहीं खोलेंगे। प्रशासन ने खुलने से बंद नहीं कराया, चर्चा की थी। मंदिर कमेटियों का ही निर्णय है।
पुष्कर मित्तल, उपखण्ड अधिकारी दौसा

Rajendra Jain
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned