अखरने लगा रोजमर्रा की वस्तुओं की कमी का संकट

KORONA: shortage crisis of everyday items: बढ़ती जा रही कालाबाजारी

दौसा. कोरोना वायरस संक्रमण से उबरने के लिए चल रहे लॉकडाउन में अब लोगों के सामने संकट गहराता जा रहा है। पिछले कई दिनों से धारा 144 लागू है। दौसा में 21 मार्च से ही लॉक डाउन चल रहा है। परचून व सब्जियों की दुकानों को खुलने की छूट दे दी, लेकिन अब दुकानों पर माल की कमी आ रही है। पिछले तीन-चार दिन से दुकानदारों के पास स्टॉक में जो सामान था वह दुकानदार बेच रहे थे, लेकिन गुरुवार से कई दुकानदारों के पास सामान ही कम पडऩे लग गया है।

दुकानदारों ने बताया कि अब तक उनके पास सामान था वे उसको बेच रहे थे, लेकिन अब आगे से नहीं माल ही नहीं आ रहा है। इधर माल कम पडऩे के बाद कईव् यापारी कालाबाजारी भी कर रहे हैं। सामान पर मूल्य से अधिक माल वसूल रहे हैं। दुकान मालिक हर सामान पर 10 से 20 प्रतिशत बढ़ा कर बेच रहे हैं। कई दुकान मालिक ग्राहकों कहने लग गए हैं कि उनका माल वे जितनी चाहे कीमत में बेचेंगे लेना हो तो लो, वर्ना मत लो। वहीं इस वक्त लोगों की अधिक मूल्य पर भी सामान लेने की मजबूरी है।

सब्जियों के भी मनमाने दाम
सब्जियों के भी मनचाहे दाम वसूले जा रहे हैं। जहां पिछले दिनों टमाटर 20 रुपए किलो बिक रहे थे वे गुरुवार को 35-40 रुपए किलो बिके। एक दुकानदार ने बताया कि आगे से माल ही नहीं आ रहा है। यह तो जिन लोगों के यहां दौसा में खेतों में सब्जी की पैदावार है वे ही बेच रहे हैं।

ग्रामीण इलााकों में भी वैसे ही हाल
ग्रामीण इलाकों में भी सामान की कालाबाजारी हो रही है। आलूदा निवासी रवि सोनी ने बताया कि उनके गांव में जो व्यापारी दुकान खोल रहे हैं वे मनचाहे दाम वसूल रहे हैं। गुरुवार को उनको एक व्यापारी ने 40 रुपए का नमकीन का पैकेट 50 रुपए में दिया। जब दुकानदार से सही भाव लगाने के लिए कहा तो वह बोला लेना हो तो लो नहीं तो मत लो। वहीं गुटखों की भी जबरदस्त कालाबाजारी हो रही है। लॉकडाउन से पहले 10 रुपए के चार पाउच मिल रहे थे, वहीं अब दो तो कहीं तीन मिल रहे हैं।

Corona virus corona virus in india
gaurav khandelwal Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned