मकर संक्राति: मांझे से खतरे में पड़ी जान, सात जने घायल

एक बाइक सवार की गर्दन पर हुआ गहरा घाव, सारस भी घायल

By: Rajendra Jain

Published: 14 Jan 2021, 09:35 PM IST

दौसा. चाहे सरकारी स्तर हो यहां निजी स्तर, हर माध्यम से मकर संक्राति के मौके पर पतंगबाजों के शौकीनों को खतरनाक मांझे का उपयोग नहीं करने की सलाह व नसीहत दी जाती है, लेकिन मकर संक्रांति के मौकेे पर पतंगबाजी के शौकीनों ने अपना शौक पूरा करने के लिए लोगों की जान से भी खेलने से परहेज नहीं किया। पतंग के मांझे की चपेट में आने से आकाश में उड़ रहा एक दुर्लभ पक्षी सारस घायल होकर शहर के गुप्तेश्वर रोड श्रीराम मंदिर में जा गिरा। जिसे देख मंदिर के संत अमरदास सहित अन्य भक्तों ने पशु चिकित्सक को बुलाकर पक्षी का इलाज करवाया। फिलहालधायल पक्षी की देखरेख मंदिर में ही की जा रही है। संत ने पतंग उड़ाने वालों से आग्रह किया है कि वे चाईनीज या अन्य कोई से भी मांझे का उपयोग ना करें। जिससे कुछ पल की खुशी के लिए किसी जीव की हत्या या घायल होने से बचाएं। इस दौरान संत संदीपदास, कमलेश शर्मा, महेंद्र शर्मा आशु हरितवाल, राजेंद्र सैनी आदि मौजूद थे।

लालसोट. चाईनीज मांझे के चपेट में आने से गुरुवार को मकर संक्रांति के मौकेे पर लालसोट शहर में आधा दर्जन से अधिक जने घायल हो गए। घायलों में अधिकांश बाइक सवार बताए जा रहे हैं। मांझे के चलते शहर केे ईदगाह निवासी युवक मुन्ना खां की जान ही खतरे में पड़ गई। जानकारी के अनुसार मुन्ना खां गुरुवार शाम करीब साढ़े चार बजे बाइक से ज्योतिबा फुले सर्किल से गुजर रहा था। इसी दौरान वहां से गुजर रहे मांझे की चपेट में आ गया और मांझा उसकी गर्दन में उलझ गया, इससे गले में काफी लंबा व गहरा घाव हो गया। घटना के चलते वह लहूलुहान हो गया और बाइक पर भी जगह जगह खून फैल गया। इस दौरान उसके साथ आए एक अन्य युवक ने उसे गंभीर हालत में लालसोट सीएचसी पहुंचाया, जहां डॉ. एस.आर. सोनी व नर्सिंग कर्मी आयुष साहू और शंकरलाल शर्मा नेे प्राथमिक उपचार के बाद जयपुर रैफर कर दिया। चिकित्सा कर्मियों के अनुसार गुरुवार को इसी तरह मांझे की चपेट में आने से घायल हुए विनोद, मनराज, दिव्या, विकास और अरेसी भी सीएचसी पहुंचे। जिनका भी उपचार किया गया है।

Rajendra Jain
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned