दौसा के कोविड वार्ड में अब एक भी मरीज भर्ती नहीं

कोरोना मुक्त हुआ जिला अस्पताल

By: Rajendra Jain

Published: 03 Jul 2021, 03:14 PM IST

दौसा. जिला अस्पताल के जिस कोविड वार्ड में अप्रेल व मई महीने में मरीजों को सिफारिशों के बाद जगह नहीं मिल रही थी, वो वार्ड अब पूरी तरह से खाली हो गया है। अब कोविड वार्ड में एक भी मरीज भर्ती नहीं है।
जिला अस्पताल के मेडिकल एवं सर्जिकल वार्ड को अप्रेल में कोविड वार्ड का रूप दे दिया गया था और मरीज भर्ती करना शुरू कर दिया गया। इस वार्ड में 85 बैड ऑक्सीजन के लगाए गए थे और आईसीयू में 6 बैड थे। अप्रेल महीने के अंतिम सप्ताह एवं मई के पूरे महीने में जिले में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की भरमार हो गई।
मई के दूसरे पखवाड़े में तो स्थिति यह हो गई थी मरीजों को कोविड वार्ड में भर्ती होने के लिए जगह नहीं मिल पाई। इमरजेंसी व वार्ड में भर्ती करने से मना किया जाने लगा। कई लोग मजबूर होकर अपने मरीजों को जयपुर ले जाने लग गए थे। यहां तक कि एक मरीज को आईसीयू में भर्ती करने के लिए नेता को सिफारिश करनी पड़ी। जिन मरीजों के पास सिफारिशें नहीं थे, उनमें से कई ने दम तोड़ दिया तो कुछ के परिजन जयपुर ले गए। जून के प्रथम सप्ताह से ही स्थिति बदलने लगी।
कोरोना मरीजों की संख्या कम होने लगी तो धीरे-धीरे वार्ड में मरीजों की संख्या भी घटती गई। अब स्थिति यह हो गई कि वार्ड में सभी बैड खाली हो गए हैं, वार्ड सूना पड़ा है। तीसरी लहर आने की आशंका को देखते हुए कोविड वार्ड को सामान्य वार्ड में नहीं बदला जाएगा। चिकित्सालय स्टाफ का कहना है कि यदि अचानक तीसरी लहर ने प्रवेश कर लिया तो फिर मरीजों को भर्ती कहां किया जाएगा। ऐसे में जुलाई के पूरे महीने चाहे खाली ही सही, लेकिन वार्ड को कोविड के लिए आरक्षित रखा जाएगा।

सामान्य मरीजों का कैसे होगा इलाज
जिला अस्पताल में सामान्य बीमारियों के मरीजों को भर्ती करने के लिए अभी तक जिला अस्पताल प्रशासन ने कोई वार्ड नहीं बनाया है। ऐसे में मरीजों को असुविधा का सामना करना पड़ रहा है। हालांकि चिकित्सा प्रशासन का कहना है कि मरीजों को कोई परेशानी नहीं हो रही है। उनका इलाज इमरजेंसी व डे- केयर में भर्ती कर किया जा रहा है, लेकिन हकीकत यह है कि एक ही दिन भर्ती कर जल्दी ही छुट्टी कर दी जाती है।

जिला अस्पताल में कोविड वार्ड में अब कोई भी मरीज भर्ती नहीं है। वार्ड में 85 ऑक्सीजन प्वाइंट वाले एवं 6 बैड आईसीयू वार्ड में हैं। सभी बैड खाली हैं। इस वार्ड को सामान्य वार्ड करने का निर्णय अस्पताल प्रशासन का है।
डॉ. आरडी मीना, कोविड वार्ड प्रभारी जिला अस्पताल दौसा

कोरोना की तीसरी लहर आने की आशंका को देखते हुए कोविड वार्ड चाहे खाली ही रहे, लेकिन जुलाई के पूरे माह तो बनाए रखेंगे। सामान्य मरीजों का इमरजेंसी व डे- केयर में इलाज किया जा रहा है।
डॉ. सीएल मीना, पीएमओ जिला अस्पताल दौसा


कोविड सहायकों ने ही नहीं की प्रोटोकॉल की पालना
जिला अस्पताल में मेडिकल प्रमाण पत्र के लिए उमड़ी भीड़
दौसा. जिले में कोविड मरीजों के समुचित उपचार, चिकित्सकीय सेवाएं उपलब्ध कराने तथा मृत्युदर को न्यूनतम किए जाने के लिए लगाए गए कोविड सहायकों ने ही शुक्रवार को जिला अस्पताल में कोविड प्रोटोकॉल का खुलेआम उल्लंघन किया।
जिले में लगाए गए 656 कोविड सहायकों को पोस्टिंग के लिए मेडिकल सहित अन्य प्रमाण पत्र चिकितसा विभाग में प्रस्तुत करने हैं। ऐसे में शुक्रवार को जिला अस्पताल के विभिन्न काउंटरों व मेडिकल ज्यूरिष्ट कक्ष के बाहर दर्जनों की संख्या में कोविड सहायकों की कतार लगी रही। लैब पंजीकरण कक्ष तो इस कदर खचाखच भर गया कि 6 फीट का सोशल डिस्टेंस तो दूर हवा तक पार नहीं हो रही थी। भीड़ अधिक बढऩे पर चैनल गेट पर ताला लगाना पड़ा।
कोविड सहायकों ने बताया कि जिला अस्पताल में प्रबंध ठीक नहीं होने से काफी परेशानी झेलनी पड़ी। भीड़ को देखते हुए सोशल डिस्टेंसिंग को ध्यान में रखकर काउंटर नहीं बनाए गए। आम दिनों की तरह की इंतजाम थे। वहीं कोविड सहायकों ने नियुक्ति मिलने पर सीएमएचओ का माला व साफा पहनाकर सम्मान भी किया।

Corona virus
Rajendra Jain
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned