पेयजल समस्या पर फूटा आक्रोश, जलदाय कार्मिकों को किया ताले में बंद

Outrage over drinking water problem, water personnel locked in lock: पानी देने के आश्वासन के बाद माने लोग

By: gaurav khandelwal

Published: 29 May 2020, 05:42 PM IST

बसवा. कस्बे में पेयजल समस्या से आक्रोशित लोगों ने जलदाय विभाग के कर्मचारियों को ताले में बंद कर दिया। अधिकारियों के मिलने व पानी देने के आश्वासन के बाद ताला खोला गया। जानकारी के अनुसार कस्बे में जलदाय विभाग करीब छह बोरिंग व 60 निजी टैंकर डलवाकर कस्बे में पानी सप्लाई करता है। पूर्व में विभाग ने 48 घंटे में पानी देने का नियम बना रखा है, लेकिन कई माह से लोगों को पांच-सात दिन में एक बार पानी मिलता है।आपूर्ति भी केवल 15 मिनट होती है।

Outrage over drinking water problem, water personnel locked in lock

लोगों को गर्मी में पानी के लिए जूझना पड़ रहा है। बार-बार अवगत कराने के बाद भी समाधान नहीं होने पर कस्बे के दर्जनों लोग जलदाय विभाग कार्यालय पहुंचे। कर्मचारियों ने पानी नहीं होने की बात कही। लोगों ने कहा कि अगर संवेदक पूरे टैंकर नहीं डाल रहा तो विभाग कार्रवाई करे। कार्यालय में कनिष्ठ अभियंता के नहीं मिलने पर लोगों को आक्रोश फूट गया। कनिष्ठ अभियंता कार्यालय के ताला लगा दिया और कर्मचारियों को अंदर बंद कर दिया। विभाग के अधिकारियों के खिलाफ जमकर नारे लगाए। लोगों ने दूरभाष पर कनिष्ठ अभियंता से वार्ता की। जेईएन ने शनिवार को मिलने व पानी देने का आश्वासन दिया। इसके बाद लोगों ने ताला खोला।


कनिष्ठ अभियंता अशोक मीणा ने बताया कि वे दौसा एक्सईएन कार्यालय गए थे। संवेदक पूरे टैंकर नहीं डाल रहा। उसे एक्सईएन ने तीन दिन में पूरे टैंकर डालने के लिए नोटिस जारी कर दिया। इसके बाद संवेदक पर उचित कार्रवाई की जाएगी।

Outrage over drinking water problem, water personnel locked in lock

पेयजल के 11.49 करोड़ रुपए स्वीकृत


दौसा. पेयजल व्यवस्था को सुधार करने के लिए रा’य सरकार ने 11.49 करोड़ की राशि स्वीकृत की है। इससे आधा दर्जन गांवों को लाभ मिलेगा। उल्लेखनीय है कि राजस्थान पत्रिका ने 29 मई के अंक में ‘आसमान से बरसती आग के बीच पानी को तरसते कंठ’ शीर्षक से समाचार प्रकाशित कर पेयजल समस्या उजागर की थी। इसके बाद विधायक मुरारीलाल मीणा ने बताया कि उन्होंने प्रयास कर क्षेत्र के लिए 11.49 करोड़ की स्वीकृति जारी कराई है। शीघ्र ही राहत के लिए अन्य कदम भी उठाए जाएंगे। विधायक ने बताया कि नांगल राजावतान कस्बे के लिए 164.01 लाख, छारेडा बागपुरा खातीवाली ढाणी के लिए &79 .&9 लाख, थूमड़ी के लिए 176.21 लाख, कालीखाड़ के लिए 170.48 लाख एवं सैंथल के लिए 259.&2 लाख रुपए स्वीकृत हुए हैं। इससे गांवों में पेयजल समस्या का निराकरण हो सकेगा।

gaurav khandelwal Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned