दौसा. करीब 13 वर्ष से आरक्षण के लिए आंदोलन कर रहे गुर्जर समाज के संघर्ष ने शुक्रवार को नई करवट ली। युवाओं ने सैकड़ों की संख्या में जिला मुख्यालय पर एकत्र होकर ताकत दिखाई। खास बात यह रही है कि इस रैली में आरक्षण आंदोलन से जुड़े पुराने चेहरे नजर नहीं आए। एकबारगी भीड़ को देखकर प्रशासन भी सकते में आ गया। बाद में शांतिपूर्ण रैली सम्पन्न होने पर अधिकारियों ने चैन की सांस ली।
गुर्जर छात्रावास में सुबह 10 बजे से ही जिलेभर से गुर्जर समाज के युवाओं का जमा होना शुरू हो गया। आसपास के कई जिलों व राज्यों से भी प्रतिनिधि आए।

 

इसके बाद आक्रोश रैली निकालकर सरकार को चेतावनी दी कि एक माह में आरक्षण मामले का हल नहीं निकाला तो सभी जिलों में समाज आक्रोश रैली आयोजित कर विधानसभा का घेराव करेगा। साथ ही सरकार के नुमाइंदों को गुर्जर बाहुल्य गांवों में नहीं घुसने देने की चेतावनी दी।

 

युवा नेता सुरेन्द्र सिंह गुर्जर ने कहा कि उनकी 50 प्रतिशत में ही 5 प्रतिशत आरक्षण देने, लम्बित देवनारायण बोर्ड का गठन शीघ्र करने एवं योजनाओं का शीघ्र लाभ देने, लम्बित छात्रवृत्ति प्रकरणों का शीघ्र निस्तारण करने, आन्दोलन में दर्ज मुकदमों को वापस लेने, लालसोट हत्याकाण्ड की सीबीआई से जांच कराने व अमरपुर में बालिका छात्रावास को समझौते के अनुसार शीघ्र चालू करने सहित कई मांगों को लेकर कलक्टर नरेशकुमार शर्मा को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned