Video: दौसा में रोडवेजकर्मियों ने किया चक्काजाम, धरने पर बैठे

25 शिड्यूल बंद करने के विरोध में कर रहे हैं प्रदर्शन

By: gaurav khandelwal

Published: 11 Dec 2017, 10:08 AM IST

दौसा. रोडवेज प्रशासन की ओर से दौसा आगार के गोवर्धन, जयपुर एवं बयाना मार्गो पर संचालित 25 शिड्यूल को बंद करने के विरोध में सोमवार सुबह से रोडवेजकर्मियों ने चक्काजाम कर दिया। चालक, परिचालक व मैकेनिक आदि ने डिपो में धरना शुरू कर दिया है। रोडवेजकर्मियों ने कहा कि प्रशासन तानाशाही कर रहा है। तनख्वाह भी तीन माह से नहीं दी जा रही है। बसें भी बंद कर दी है। इससे लगता है कि रोडवेज को बंद करा जा रहा है। बसों के शिड्यूल बंद करने से जिलेवासियों इन स्थानों पर यात्रा करने में खासी परेशानी झेलनी पडेगी। दौसा डिपो की 93 में से 25 बसों के चले जाने से शादी-समारोह, अन्य कार्यों मेेंं बुकिंग के लिए बसों का टोटा हो जाएगा, लेकिन रोडवेज प्रशासन का आमजन की सुविधाओं से कोई सरोकार नजर नहीं आ रहा है।

 


उल्लेखनीय है कि राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम के कार्यकारी निदेशक यू डी खान ने एक दिसम्बर को दौसा-जयपुर-गोवर्धन एवं दौसा-जयपुर-बयाना मार्ग के 25 शिड्यूल को 11 दिसम्बर से वैशालीनगर आगार में स्थानान्तरित करने के आदेश जारी किए हैं। इसका कारण यह बताया गया है कि दौसा आगार से जयपुर-गोवर्धन-दौसा एवं दौसा-जयपुर-बयाना-जयपुर-दौसा संचालित की जा रही है। इनमें दौसा से जयपुर के बीच में आय कम हो रही है।

 

इससे इन मार्गों पर चलने वाली बसों को वैशाली नगर जयपुर से ही संचालित की जाए। इन रूटों के चालक एवं परिचालकों को भी बसों के साथ वहां लगाया जाएगा। जबकि यहां से रोजाना सैकड़ों लोग दौसा से जयपुर अप-डाउन करते हैं। दौसा आगार आय के हिसाब से भी प्रदेश के 52 आगारों में से गत चार वर्षों से टॉप टेन में बना हुआ है, लेकिन रोडवेज प्रशासन द्वारा 25 शिड्यूल को बंद कर देने से आगार की हालत खस्ता हो सकती है। खास बात यह है कि वर्ष 2013 में भी गोवर्धन मार्ग के शिड्यूल स्थानान्तरण किए गए थे, लेकिन आमजन के विरोध के कारण आदेश वापिस लेने पडे थे।

 

 

ये होगा नुकसान
दौसा आगार से वर्तमान में प्रतिदिन 34 हजार किलोमीटर बसों का संचालन किया जा रहा है। ऐसे में गोर्वधन एवं बयाना के शिड्यूल स्थानान्तरित होने से करीब 10 हजार किलोमीटर का संचालन कम हो जाएगा। इससे आगार की रोजाना करीब 10 लाख रुपए होने वाली आय पर भी विपरीत असर पडऩा तय है।

 

 

बायपास से गुजरती हैं बसें
अन्य आगारों की अधिकांश बसें बायपास से होकर चले जाती है। इससे शहर के लोगो को आने-जाने में खासी परेशानी का सामना करना पड़ता है। वर्तमान में वैशाली नगर डिपों की 5 बसे दौसा में सीधी बायपास से होकर गुजर रही है। ऐसे में सवाल यह है कि दौसा से वैशाली आगार को स्थानांतरण होने वाली बसें भी सीधे बायपास से होकर गुजर सकती है। जबकि इसके लिए कई बार निर्देश जारी होने के बावजूद स्थिति में कोई सुधार नहीं हो रहा है।

gaurav khandelwal Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned