बच्चों को स्कूल ला रही बस पलटी, 32 मासूमों को तड़पता, रोता छोड़ भाग गया चालक

बच्चों को स्कूल ला रही बस पलटी, 32 मासूमों को तड़पता, रोता छोड़ भाग गया चालक

Nidhi Mishra | Publish: Sep, 01 2018 10:56:14 AM (IST) Dausa, Rajasthan, India

https://www.patrika.com/rajasthan-news/

जयपुर /दौसा। दौसा में शनिवार सवेरे एक निजी स्कूल की बस बेकाबू होकर पलट गई। बस में पैंतालीस से ज्यादा बच्चे सवार थे और बस पलटने के बाद उनमें से 30 से ज्यादा बच्चे घायल हो गए। बच्चों को रोते—बिलखते छोड़कर बस चालक भाग छूटा तो बाद में आसपास से गुजर रहे लोगों ने बच्चों को बस से बाहर निकाला और अस्पताल पहुंचाया।


बाद में स्कूल संचालक भी मौके पर पहुंचे और दूसरी स्कूल बस से बच्चों को ले गए। मौके पर पहुंची पुलिस ने बताया कि सवेरे राणोली से सराय की ओर आ रही बस सराय के नजदीक घुमाव पर बेकाबू होकर पलट गई। पूरी बस स्कूली बच्चों से भरी हुई थी और अधिकतर बच्चे कम उम्र के थे। मौके पर जब तक पुलिस टीम पहुंची तब तक अधिकतर बच्चों को या तो स्कूल ले जाया गया था या फिर निजी अस्पतालों में भर्ती करा दिया गया था। पुलिस ने बताया कि बच्चों को वैसे गंभीर चोटें नहीं लगी है, लेकिन वे घबराए हुए हैं। उधर फरार हुए बस चालक की तलाश की जा रही है, उसका मोबाइल फोन स्विच आॅफ है।

 

दूसरी ओर प्रतापगढ़ के में आर्यसमाज संस्था द्वारा संचालित तहसील रोड स्थित ओंकार माध्यमिक विद्यालय में कमरे की खिड़की पर स्कूल के ही शिक्षक का शव लटका मिला। लोगों ने इस पर हत्या की आशंका जताई है। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची। कमरे में लटके हुए शव और कमरे का मौका मुआयना कर लोगों से शिक्षक से मिलने वाले व्यक्तियों व शिक्षक के बारे में पूछताछ की जा रही है। शिक्षक की मौत की खबर सुन आसपास के लोगों की व महिलाओं की भीड़ बड़ी तादाद में विद्यालय परिसर में एकत्रित हो गई। पुलिस ने लोगों के सहयोग से शव को उतरवाया और एंबुलेंस की सहायता से पोस्टमार्टम के लिए जयचंद मोहिल सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की मोर्चरी में रखवाया गया।

 

चिल्ला उठे बच्चे
रोज की तरह सवेरे बच्चे स्कूल पहुंचे। कमरा नम्बर 3 में जैसे ही बच्चों ने प्रवेश किया, वे चिल्ला उठे। कल तक उन्हें पढ़ाने वाले टीचर बच्चों को कमरे में लटके मिले। बच्चे वहां से भाग गए।

दृष्टिहीन थे शिक्षक
ओंकार माध्यमिक विद्यालय में अध्यापन कार्य कराने वाले 60 साल के शिक्षक रामप्रकाश आर्य दृष्टिहीन थे। उनका शव शनिवार सुबह विद्यालय के कमरा नंबर 3 में खिड़की में लटका हुआ मिला। दृष्टिहीन शिक्षक द्वारा इस प्रकार से फंदा लगाकर आत्महत्या करने की बात लोगों के गले नहीं उतर रही है। लोगों ने आशंका जताई है कि शिक्षक की किसी न किसी कारण के चलते उसकी हत्या की गई है।

 

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned